भारतीय वायुसेना या भारतीय सेना के किसी भी अंग से जुड़ना अपने आप में गौरव की बात है। हर साल लाखों की संख्या में नौजवान इस परीक्षा को देते हैं और अपना भविष्य बनाते हैं। इसकी परीक्षा पहले हर साल एक बार ही कराई जाती थी जिससे बहुत लोगों को मौका नहीं मिल पाता था लेकिन अब ये परीक्षा साल में दो बार करायी जाएगी यानि कि अप्रैल और अक्टूबर के माह में ये परीक्षा करायी जाएगी। वायुसेना की ओर से परीक्षा के संबंध में कहा गया है, कि शेड्यूल्ड टेस्ट फॉर एयरमैन रिक्रूटमेंट (एसटीएआर ) को इस वर्ष से ऑनलाइन भी कर दिया गया है। परीक्षा के ऑनलाइन होने के साथ ही नए 760 परीक्षा केंद्र देशभर में बनाये गए हैं, जिससे अभ्यर्थी को अब परीक्षा देने के लिए दूर नहीं जाना पड़ेगा।

अब से वर्ष में दो बार आयोजित होगी वायुसेना भर्ती परीक्षा।

वायुसेना में भर्ती के सामान्यतः दो स्तर होते हैं – टेकिन्कल और नॉन टेक्निकल , एयरमैन के पद पर भर्ती नॉन-टेक्निकल में होती है। आपको बता दें कि इसके लिए शैक्षिक योग्यता बहुत जरूरी है। जो व्यक्ति वायुसेना में एयरमैन बनना चाहते हैं उनका साइंस या आर्ट से इंटरमीडिएट होना जरुरी है। साथ ही उनकी आयु सीमा कम से कम 16 वर्ष और अधिकतम 21 वर्ष निर्धारित है। और आपको ये भी बता दें कि इसकी चयन प्रक्रिया क्या है ? अभ्यर्थियों का चयन एंट्रेंस टेस्ट के माध्यम से किया जाता है , जो कि  आल इंडिया लेवल पर कराया जाता है, एंट्रेंस टेस्ट में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को डॉक्टरी जांच के लिए भेजा जाता है, जिसके बाद उनका चयन कर लिया जाता है।

ये उम्मीदवारों के लिए बहुत अच्छी खबर है की उम्मीदवारों को अब साल में 1 बार की बजाय 2 बार वायुसेना भर्ती के मौके मिलेंगे। इस बार से परीक्षा पूर्ण रूप से कंप्यूटर आधारित होगी जिससे भर्ती के लिए ज्यादा टाइम मिल सकेगा और यह भर्ती परीक्षा वर्ष में 2 बार अप्रैल और अक्टूबर माह में आयोजित हो सकेगी।

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here