दिल्ली यूनिवर्सिटी में प्रवेश लेने की इच्छा रखने वाले छात्रों के लिए खुशखबरी है दिल्ली यूनिवर्सिटी के स्नातक कोर्स के लिए आवेदन जल्द ही शुरू होने वाले हैं। इसके आवेदन अप्रैल 2018 महीने के चौथे सप्ताह से शुरू होने वाले हैं साथ ही इसकी पहली कट ऑफ लिस्ट जून में आएगी। इस साल सभी पाठ्यक्रमों के पंजीकरण के लिए एक ही केंद्रीकृत पोर्टल होगा। दिल्ली विश्वविद्यालय के एडमिशन के लिए यह प्रक्रिया जून तक चलेगी ऐसा इसीलिए होगा क्योकि कहीं तो कुछ बोर्ड ने अपना परीक्षा परिणाम जारी कर दिया है वही कुछ बोर्ड के रिजल्ट आने में वक़्त लग सकता है इसलिए डीयू 2018 एडमिशन के लिए आवेदन जून तक भरे जायेंगे।

डीयू जून में जारी करेगा अपनी पहली कट ऑफ लिस्ट , अप्रैल से शुरू होगी आवेदन प्रक्रिया।

दिल्ली यूनिवर्सिटी के विभिन्न कॉलेज के लिए आवेदन शुरू होने वाले हैं छात्र यह जान ले कि, वे अप्रैल के चौथे हफ्ते से इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया शुरू होते ही छात्र आवेदन कर लें। प्रवेश के लिए आवेदन फॉर्म डीयू की केंद्रीकृत पोर्टल से किया जा सकेगा।

चूँकि एडमिशन प्रोसेस थोड़ा लम्बा हो सकता है और ठीक समय पर आवेदन करने से यह भी फायदा है की अगर आवेदन में कोई गलती हो जाती है तो आपके पास भरपूर समय होगा। ऐसा कुछ होने पर आप दिल्ली यूनिवर्सिटी की कमेटी जो की यह सब देखती है आप उनसे बात कर सकते हैं और अपनी गलती या जो भी परेशानी आ रही है, सही कर सकते हैं।

बहुत सारे बोर्ड्स ऐसे हैं जिन्होने अभी अपना बोर्ड्स का परिणाम घोषित नहीं किया है इसीलिए दिल्ली यूनिवर्सिटी की एडमिशन प्रक्रिया जून 2018 तक चलेगी। जिससे की दूसरे बोर्ड वाले विद्यार्थियों को परेशानी न हो क्योकि दिल्ली विश्वविद्यालय में पूरे देश प्रदेश से आये छात्र दाखिला लेना चाहते हैं। इस विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले 77 कॉलेज अपनी शिक्षा की गुणवत्ता के लिए जाने जाते हैं और यहाँ से पास होकर निकले विद्यार्थी बहुत अच्छा नाम कमाते हैं। इसमें एडमिशन लेने के लिए बहुत ही ज्यादा बच्चे आवेदन करते हैं इसीलिए कभी-कभी इसकी कट ऑफ सूची थोड़ी ज्यादा हो जाती है।

इस साल प्रवेश-आधारित स्नातक कार्यक्रमों के लिए पंजीकरण अलग से नहीं किया जाएगा। उम्मीदवार केंद्रीयकृत प्रवेश पोर्टल के माध्यम से सभी पाठ्यक्रमों के लिए पंजीकरण कर सकते हैं। यह प्रक्रिया डेटा को एक ही स्थान पर पेश करने और समिति को आसानी से सुलभ बनाने की अनुमति देगी। इससे पहले प्रवेश-आधारित पंजीकरण के लिए एक अलग पंजीकरण प्रक्रिया थी जो अप्रैल के पहले सप्ताह से शुरू हुई थी। प्रक्रिया को उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाने के लिए कदम उठाए गए थे। पंजीकरण के नए प्रारूप में हालांकि प्रक्रिया को दो हफ्तों तक सीधे देरी हुई है।

Leave a Reply