फाइनली नीट 2018 की परीक्षा सही से आज 06 मई को संपन्न हो गयी है। परीक्षार्थियों के अनुसार परीक्षा आसान थी लेकिन थोड़ी बहुत भ्रमित करने वाली थी। आपको बता दें कि इस वर्ष मेडिकल के एग्जाम के लिए 13,26,725 परीक्षार्थियों ने आवेदन किया था। आपको बता दें कि सुबह परीक्षा केंद्र में बहुत से परीक्षार्थियों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

नीट परीक्षा में फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी के प्रश्न पूछे जाते हैं। परीक्षार्थियों के अनुसार फिजिक्स का भाग कठिन था और काफी लम्बा भी था। केमिस्ट्री और बायोलॉजी का भाग काफी हद तक आसान था, लेकिन बायोलॉजी में बॉटनी का भाग भी कठिन था।

ये भी पढ़ें – यहाँ से देखें नीट 2018 परीक्षा की आंसर की।

अभ्यर्थियों का कहना है कि सभी विषयों को मिलकर कठिनाई का स्तर मध्यम था, वे पेपर की कठनाई के स्तर को 10 में से 6-8 के बीच रेट दे रहे हैं। पिछले साल की तुलना में भौतिकी इस साल अधिक कठिन थी।इस बार पाठ्यक्रम का सख्ती से पालन किया गया।

परीक्षा केंद्रों में अपनी फोटो न ले जाने के कारण उम्मीदवारों को 50 रूपये दे कर परीक्षा केंद्र में जाना पड़ा। दिल्ली के एक परीक्षा केंद्र में दो लड़कियों को परीक्षा केंद्र में अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गयी।

आज सुबह से ही उम्मीदवारों के बीच नीट खासी चर्चा का विषय रहा है। बाहर से आये उम्मीदवारों को काफी परेशानी सामना करना पड़ा। कहीं-कहीं ट्रैन लेट थी तो कहीं उम्मीदवारों के कपड़ों की बाजुओं को काट के आधा कर दिया गया। इस बार नीट परीक्षा में बहुत कड़ा रुख देखने को मिला। इसके अलावा समाज के लोग भी काफी सहायक नज़र आये। वे बाहर से आये परीक्षार्थियों की मदद के लिए अपने घर में तक रुकने की अनुमति दे रहे हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here