जो लोग यूपीएसएसएससी समूह ‘ग’ की रुकी हुईं भर्तियों का इंतजार कर रहे हैं उनको बता दें कि सोमवार को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंजूरी के बाद यूपी अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (यूपीएसएसएससी) का गठन हो गया है। और चंद्रभूषण पालीवाल को इसका अध्यक्ष बनाया गया है, जो कि 1981 बैच के रिटायर्ड आईएएस अफसर हैं। इतना ही नहीं इसके अतिरिक्त 5 अन्य सदस्यों की भी नियुक्ति हुई है।

समूह ‘ग’ की करीब 65 हजार खाली पदों पर होगी भर्तियां

नवनियुक्त चेयरमैन चंद्रभूषण पालीवाल ने कहा कि उनकी प्राथमिकता है कि समूह ‘ग’ की करीब 65 हजार खाली पदों पर तेजी से भर्तियां हों। पहले पालीवाल ने मुख्य सचिव राजीव कुमार से मुलाकात की। उसके बाद आयोग के पिकल ऑफिस जाकर उन्होंने अपना पदभार ग्रहण किया। जो कर्मचारी वर्षों से प्रमोशन की उम्मीद लगाए बैठे हैं उनको बता दें कि इससे पहले विभिन्न विभाग में प्रमोशन होने जा रहे हैं। यह प्रक्रिया 31 जनवरी से तक पूरी होनी है।

क्यों आठ माह से फंसी थीं समूह ‘ग’ की भर्तियां

आयोग के तत्कालीन अध्यक्ष राज किशोर यादव व अन्य सदस्यों ने (बबिता लाठर को छोड़कर), अप्रैल में योगी आदित्यनाथ की सरकार आने के बाद इस्तीफा दे दिया था। कई पदों पर उस समय भर्ती की प्रक्रिया चल रही थी। कुछ के तो इंटरव्यू हो रहे थे, तो किसी पर के लिए लिखित परीक्षा होनी थी। इस्तीफे देने के बाद भर्तियां जहां की तहां ही फंस गईं। अब आयोग के गठन के बाद उम्मीद की जा रही है कि भर्तियां जल्द शुरू होंगी।सख्त स्क्रीनिंग के बाद यूपी अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (यूपीएसएसएससी) की नई टीम का गठन किया गया।सीएम को समिति ने अध्यक्ष पद के लिए 16 तथा सदस्यों के लिए 40 नामों का पैनल भेजा था। इन्हीं में से एक अध्यक्ष व पांच सदस्यों की नियुक्ति को मुख्यमंत्री ने मंजूरी दी है।

सबसे पहले इन पदों की भर्ती पर होगा फैसला

सवाल के जवाब में नव नियुक्त अध्यक्ष चंद्र भूषण पालीवाल ने बताया कि सबसे पहले उन्हीं के बारे में निर्णय होगा जिन पदों पर भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। उन्होंने बताया कि वह सबसे पहले ये जानेंगे कि जिन पदों की भर्ती हो रही थी, वे कौन से स्टेज पर हैं। क्योंकि एेसा हुआ है कि किसी में परीक्षा हो गई है तो किसी में साक्षात्कार नहीं हुए हैं। और किसी में इंटरव्यू हो गए हैं तो किसी में रिजल्ट नहीं घोषित हुआ हैं। और किसी में प्रैक्टिकल लंबित है।निर्णय इन सभी पर संबंधित पद की नियमावली के हिसाब से ही लिया जाएगा।

24 हजार पद पर भर्ती का प्रस्ताव

समूह ‘ग’ के करीब 65 हजार पद रिक्त होने की संभावना जताई जा रही है। 25 हजार पदों पर भर्ती का प्रस्ताव आ चुका है। इतनी पदों पर रिक्तियों से युवा में नौकरी के अवसर बढ जाएंगे।

एक हफ्ते में पता चल जाएगी विज्ञापन की तारीख

जो उम्मीदवार विज्ञापन की तारीख का इंतजार कर रहें हैं उनको बता दें कि सीबी पालीवाल ने कहा है कि हम एक हफ्ते में बता देंगे कि पहला विज्ञापन कब तक निकालेंगे।

15 दिन में तैयार हो जाएगा भर्तियों का कैलेंडर

जो उम्मीदवार भर्ती का कैलेंडर देखना चाहते हैं उनको बता दें कि 10-15 दिनों में पूरी परिस्थितियों का अध्ययन करने के बाद आयोग अपना एक टाइम टेबल तैयार करेगा।

मार्च तक आएगी यूपी में भर्तियों की बंपर सौगात

जो उम्मीदवार यूपी में भर्ती के लिए इतंजार कर रहे हैं उनको बता दें कि मार्च तक भर्तियों में तेजी आ जएगी। तो आप भी तैयार रहें रिक्त पदों पर आवेदन करने के लिए। आपको बता दें कि आने वाले दिनों में विभिन्न समुहों के करीब 1 लाख रिक्त पदों पर और साल के अन्त तक लगभग साढे तान लाख पद भरने की योजना है। पा्रमरी के शिक्षकों की 68,500 और सिपाही के लगभग 41,500 भर्तियों को हरी दिखा दी है। माध्यिमक शिक्षा बोर्ड विभाग में चतुर्थ श्रेणी के 14 हजार पदों पर भर्ती की कार्यवाही शुरू करवाई जा चुकी है। इसके अलावा राज्य लोक सेवा आयोग के जरिए 4127 नर्सों की भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। अधिकारी ने कहा है कि जैसे ही शिक्षक और सिपाही की मैजूदा भर्ती प्रक्रिया खत्म हो जाएगी। वैसे ही दूसरे चरण की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

इन पदों पर होनी हैं भर्तियां

 पद का नाम  पदों की संख्या
 अधीनस्थ सेवा चयन आयोग 6,5000
 राजस्व लेकपाल 5,500
 उप निरीक्षक 4,000 से लेकर 5,000
 म्रतक आश्रित पुलिस विभाग 530

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here