5 सितंबर सुनते ही हमेें अपनी अध्यापक याद आ जाते हैं और साथ अपने बचपन के दिनों कि यादें भी ताजा हो जाती हैं। शिक्षक दिवस अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 5 अक्टूबर को मनाया जाता हैं। भारत में यह दिवस डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन के सम्मान में मनाया जाता हैं।डॉ.राधीकृष्ण देश के दूसरे राष्ट्रपति रह चुके हैं, जिनका देश के संविधान बनाने में महत्वपूर्ण योगदान रहा हैं। जिस इंसान के सम्मान में यह दिवस मनाया जाता हैं उनका कहना था कि “यदि सही तरीके से शिक्षा दी जाए तो समाज की बुराईयों को मिटाया जा सकता हैं “। तो इससे हम यह देख सकते हैं कि शिक्षा कितनी जरुरी हैं।और जैसे जैसे समाज का विकास होता जा रहा है, शिक्षा का महत्व भी बढ़ता जा रहा हैं।

और इसी को देखते हुए आज हम शिक्षा दिवस को खास मनाने के लिए टीचर्स डे पर शायरी, मेसेज और कविताएं इस लेख में जोड़ी हैं।और ये शायरी, मेसेज और कविताएं आप अपने अध्यापक को भी भेज सकते हैं। स्कूलों में, कॉलेजों में टीचर डे शायरी आदि छात्रों को चाहिए होती हैं तो वे हमारे आर्टिकल में से देख सकते हैं।

ये भी पढ़ें –

टीचर पर शायरी इन हिंदी

गुरु का महत्व कभी होगा ना कम,
भले कर ले कितनी भी उन्नति हम,
वैसे तो है इंटरनेट पे हर प्रकार का ज्ञान,
पर अच्छे बुरे की नहीं है उसे पहचान।

गुमनामी के अंधेरे में था
पहचान बना दिया
दुनिया के गम से मुझे
अनजान बना दिया
उनकी ऐसी कृपा हुई
गुरू ने मुझे एक अच्छा
इंसान बना दिया।

गुरू बिना ज्ञान कहाँ,
उसके ज्ञान का आदि न अंत यहाँ।
गुरू ने दी शिक्षा जहाँ,
उठी शिष्टाचार की मूरत वहाँ।

हमारा मार्गदर्शक बनने,
हमें प्रेरित करने और
हमें वो बनाने के लिए
जो कि हम आज हैं,
हे शिक्षक आपका धन्यवाद।

शिक्षक दिवस पर मैसेज

मुझे पढ़ना-लिखना सिखाने के लिए धन्यवाद
मुझे सही-गलत की पहचान सिखाने के लिए धन्यवाद
मुझे बड़े सपने देखने और आकाश को चूमने का साहस देने के लिए धन्यवाद
मेरा मित्र, गुरु और प्रकाश बनने के लिए धन्यवाद.

हमें शिक्षित करने के लिए अपने जो कड़ी मेहनत और प्रयत्न किये हैं हम उसके सदा आभारी रहेंगे.

मैं भाग्यशाली था कि मुझे आप जैसा गुरु मिला. शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

आप मेरे जीवन की प्रेरणा रहे हैं, आपने हमेशा मुझे सत्य और अनुशासन का पाठ पढ़ाया है. आपको शिक्षक दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं.

प्रिय टीचर, मुझे हमेशा सपोर्ट करने और मेरा मार्गदर्शन करने के लिए धन्यवाद. यदि मुझे हमेशा आपका आशीर्वाद मिल पाता तो मैं उसी तरह सफल होता जाता जैसे मैं होता आया हूँ. Have a wonderful Teachers Day

शिक्षक दिवस पर कविता

POEM 1

सही क्या है, गलत क्या है,
ये सब बताते हैं आप,झूठ क्या है और सच क्या है
ये सब समझाते है आप,जब सूझता नहीं कुछ भी
राहों को सरल बनाते हैं आप,

जीवन के हर अँधेरे में,

रौशनी दिखाते हैं आप,

बंद हो जाते हैं जब सारे दरवाज़े
नया रास्ता दिखाते हैं आप,

सिर्फ किताबी ज्ञान ही नहीं,

जीवन जीना सिखाते हैं आप!

POEM 2

सुन्दर सुर सजाने को साज बनाता हूँ,

नौसिखिये परिंदों को बाज बनाता हूँ.

चुपचाप सुनता हूँ शिकायतें सबकी,
तब दुनिया बदलने की आवाज बनाता हूँ.

समंदर तो परखता है हौंसले कश्तियों के,
और मैं डूबती कश्तियों को जहाज बनाता हूँ,

बनाए चाहे चांद पे कोई बुर्ज ए खलीफा
अरे मैं तो कच्ची ईंटों से ही ताज बनाता हूँ ।।

POEM 3

गुरु आपकी ये अमृत वाणी हमेशा मुझको याद रहे
जो अच्छा है जो बुरा है उसकी हम पहचान करे,

मार्ग मिले चाहे जैसा भी उसका हम सम्मान करे
दीप जले या अँगारे हो पाठ तुम्हारा याद रहे,

अच्छाई और बुराई का जब भी हम चुनाव करे
गुरु आपकी ये अमृत वाणी हमेशा मुझको याद रहे.

POEM 4

सूखी डाली को हरियाली, बेजान को जीवनदान दिया.
काले अंधियारे जीवन को, सौ सूरज से धनवान किया.
परोपकार, भाईचारा, मानवता, हमको सिखलाई.
सच्चाई की है दी मिसाल, है सहानुभूति क्या दिखलाई.

POEM 5

कान पकड़ उठक-बैठक, थी छड़ियों की बरसात हुयी.
समझ न पाया उस क्षण मैं, अनुशासन की शुरुआत हुयी.
मुखमंडल पर अंगार कभी, आँखों में निश्छल प्यार कभी.
अंतर में माँ की ममता थी, सोनार कभी, लोहार कभी.

अपने विचार बताएं।