जिन उम्मीदवारों ने इस साल यानी कि साल 2018 में एकेटीयू या यूपीटीयू के लिए आवेदन किया था उनके लिए आज की हमारी ये खबर बहुत ही जरूरी है। जी हां आपको बता दें कि एकेटीयू के लिए लगभग 15 हजार दाखिले संदेह में फसे हैं। आपको बता दें कि खबरों के मुताबिक डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक यूनिवर्सिटी (एकेटीयू) से जुडे़ इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट कॉलेंजों में एक बार फिर बडी़ संख्या में कागजों में दाखिले की आशंका दिख रही है।

शैक्षिक सत्र 2017-2018 में लगभग 72 हजार विघार्थियों के दाखिले हुए थे। जिसमें 15 हजार छात्रों के मूल प्रमाण पत्र कॉलेज उपलब्ध नहीं करा पा रहे हैं। ऐसे में ये कहा जा सकता है कि ये दाखिले संदेह के घेरे में आ रहे हैं। अब विवि ने इन छात्रओं का दाखिला लेने के लिए कॉलेज को मूल प्रमाण पत्र सत्यापन कराने का अंतिम मौका दिया है।

साथ ही आपको बता दें कि विश्वविद्यालय ने सत्र 2017-2018 में कॉलेजों में प्रवेशित छात्रों का पिछले दिनों मूल जस्तावेजों का सत्यापन का काम शुरू किया था। कुल 72 हजार दाखिल में से 2500 छात्र ऐसे मिले हैं, जिनके ईआरपी पर अपलोड दस्तावेज पढ़ने में ही नहीं आ रहे हैं। वहीं लगभग 12500 छात्रों के मूल दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराए गए हैं।

इसके लिए कॉलेजों को विव ने दो बार मूल दस्तावेज सत्यापन के लिए बुलाया। कुल क़लेज तो आए।इसके बाद ओम प्रकाश ने संबंधित कॉलेजों को पत्र भेजकर अपठनीय दस्तावेज के स्थान पर पाठनीय दस्तावोज ईआरपी के जरिए हर हाल में 1 जुलाई 2018 तक अपलोड कराने को कहा। अब 2 जुलाई 2018 से 7 जुलाई 2018 तक चरणबद्ध तरीके से कॉलेजों को सेंटर पर जाकर अपने छात्रों के मूल दस्तादेजों का सत्यापन कराने हैं। इसके बाद भी अगर जिन कॉलेजों के नामांकन सत्यापित नहीं होंगे उनके नामांकन निरस्त कर दिया जाएगा। नामांकन वाले छात्रों के दस्तावेज सत्यापन में समय लग रहा है अब तो सेमेस्टर परीक्षा के परिणाम भी आना शुरू हो गए हैं। लेकिन जब तक छात्रों के दस्तावेजों का सत्यापन नहीं हो जाता तब तक उनका परिणाम व्यू पर नहीं दिखेगा।

Banasthali Vidyapith 2019 Apply Now!!

अपने विचार बताएं।