भारतीय सेना

अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय कर्नाट में स्थापित है। लाखों उम्मीदवार हर साल अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय में एडमिशन लेते है। एक गैर-लाभकारी विश्वविद्यालय है। इस विश्वविद्यालय में बहुत प्रकार के कोर्स करवाए जाते है। अगर हम अंडरग्रेजुएट की बात करें तो बी.ए इकोनॉमिक्स से लेकर बी.एससी.बी.ई.एड बायोलॉजी तक के कोर्स और पोस्ट ग्रेजुएट एम.ए डेवेलोमेंट आदि कोर्स यह विश्वविद्यालय करवाता है। आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय की पूरी चर्चा करेंगे। तो फिर देर किस बात की चलिए निचे एक नज़र डालते है।

अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय (Azim Premji University) के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें

जानकारी के मुताबिक यह विश्वविद्यालय 2010 में कर्नाटक विधान मण्डल के अज़ीम प्रेमजी अधिनियम के तहत स्थापित किया गया था। इस विश्वविद्याल का मिशन छात्रों को बेहतरीन शिक्षा देना। अज़ीम प्रेमजी फाऊंडेशन इस विश्वविद्यालय का प्रयोजक है। इस विश्वविद्यालय ने समाज में अपनी एक अलग ही पहचान बनाई है। नीचे हम अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय में कौन-कौन से कोर्स कोर्स करवाए जाते है।उसके बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। आइये फिर नीचे एक नज़र डालते है।

 कितने प्रकार के कोर्स होते है 

अगर छात्र अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय में पढ़ाई करना चाहते है। तो आपको बता दें कि अंडरग्रेजुएट प्रोग्राम में आपको फॉर ईयर ड्यूल डिग्री इन साइंस और एजुकेशन (बी.एससी. बी.ईएड) कोर्स उपलब्ध है। और वही हम पोस्टग्रेजुएट प्रोग्राम की बात करें तो एम.ए एजुकेशन ,डेवलपमेंट ,पब्लिक पालिसी एंड गवर्नेंस कोर्स उपलब्ध है। नीचे हम इन कोर्स को विस्तार से समझने की कोशिश करते है।

फॉर-ईयर ड्यूल डिग्री कोर्स 

  • बी.एससी. बी.ईएड लाइफ साइंस एंड एजुकेशन।
  • बी.एससी. बी.ईएड फिजिकल साइंस एंड एजुकेशन।

थ्री ईयर बी.ए और बी.एससी डिग्री कोर्स 

  • बी.एससी बायोलॉजी
  • बी.एससी फिजिक्स
  • बी.एससी मैथमेटिक्स
  • बी.ए इकोनॉमिक्स
  • बी.ए हूमाँटिएस

2 ईयर वाले मास्टर प्रोग्राम

  • एम.ए एजुकेशन
  • एम.ए डेवलपमेंट
  • एम.ए पब्लिक पॉलिसी एंड गवर्नेंस

अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय का मूल कार्य छात्रों को उच्च शिक्षा प्रधान करना है।भारत में ऐसे बहुत से छात्र है जो शिक्षा से वंचित है।जो छात्र भारत में शिक्षा और विकास की दिशा में योगदान करने की गहरी इच्छा रखते हो और विचार की आजादी विश्वास रखते हो। उनका अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय में स्वागत है।

अपने विचार बताएं।