सीबीएसई

जो उम्मीदवार बिहार बीएड करना चाहते हैं उनको बता दें कि अगर आपको बीएड में दाखिला लेना है तो आपको एक कॉमन एंट्रेंस टेस्ट देना होगा। आपको बता दे कि ऐसा पहली बार होगा कि राज्य के सभी विश्वविद्यालयों में बीएड कोर्स में दाखिले के लिए कॉमन प्रवेश परीक्षा होगी। बीएड कोर्स में दाखिले के लिए राजभवन ने सभी विश्वविद्यालयों को पत्र भेज दिया है। अगर आप इसी सत्र में बीएड करने की सोच रहे हैं तो जान लें कि इसी सत्र यानी कि 2018-20 से कॉमन प्रवेश परीक्षा की शुरुआत होनी है। अगर आप भी इस परीक्षा में शामिल होना चाहते हैं तो आप ये भी जान ले कि जल्द ही बीएड कोर्स की कॉमन प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन और परीक्षा की तिथि भी घोषित की जाएगी।

बिहार में बीएड के लिए भी होगा कॉमन एंट्रेंस टेस्ट

अगर आप आवेदन करने की सोच रहे हैं तो आपको बता दें कि ये उम्मीद की जा रही है कि आवेदन की प्रक्रिया मई में शुरू हो सकती है। साथ ही आप ये भी जान ले कि कॉमन प्रवेश परीक्षा का रेगुलशन भी तैयार कर लिया है। परीक्षा का रेगुलशन राजभवन की एडवाइजरी कमेटी ने तैयार किया है। लेकिन आपको बता दें कि अभी कॉमन प्रवेश परीक्षा कराने की जिम्मेवारी किसी एक विश्वविद्यालय को नहीं दी गई है। लेकिन शबरों के मुताबिक जल्द ही प्रवेश परीक्षा कराने की जिम्मेवारी किसी एक विश्वविद्यालय को दी जाएगी। और यह प्रक्रिया रोटेशनल होगी। बीएड प्रवेश परीक्षा कराने की जिम्मेवारी सभी विश्वविद्यालयों को एक-एक बार दी जाएगी। कोई एक विश्वविद्यालय ही हमेशा बीएड प्रवेश परीक्षा कराने की जिम्मेदारी नहीं लेगा। बीएड प्रवेश परीक्षा कराने की जम्मेदारी हर बार अलग अलग विश्वविद्यालय को दी जाएगी।

ये फैसला इसलिए लिया गया है जिससे बीएड कोर्स में धांधली की प्रक्रिया पर लगाम लगाई जा सके। राजभवन के इस फैसले से बीएड कोर्स में धांधली की प्रक्रिया पर लगाम लगाई जा सकती है। उन बीएड कॉलेज जो किसी न किसी विश्वविद्यालय से एफिलिएटेड हैं उनके द्वारा बीएड कोर्स के दाखिले में बहुत खेल किया जाता है। राज्य के कई ऐसे विश्वविद्यालय हैं जो बीएड कोर्स का एफिलिएशन देते हैं। इन विश्वविद्यालय में पटना विश्वविद्यालय  नहीं आता है। खेल करने में विश्वविद्यालय की भी मिलीभगत होती है। इस नई व्यवस्था के कारण काफी सुधार होगा।

लेकिन आपको ये भी बता दें कि राजभवन की ओर से बीएड कोर्स में दाखिले के लिए अब तक कोई निर्देश नहीं मिला है। अगर समय पर पर आवेदन की प्रक्रिया शुरू नहीं हुई तो सत्र विलंब होने की भी संभावना है। और साथ ही अगर समय पर परीक्षा नहीं हुई तो बीएड कोर्स में सीटें खाली रह जाएंगी। इसका पत्र मिल चुका है कि कॉमन प्रवेश परीक्षा के माध्यम से बीएड कोर्स में दाखिला होगा। और इसकी तैयारी भी शुरू हो गई है। आपको बता दें कि नालंदा खुला विवि भी कॉमन परीक्षा में शामिल होगा। लेकिन इसके लिए अलग प्रक्रिया होगी।

अपने विचार बताएं।