सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने कथित तौर पर कहा है कि यह उन छात्रों को दो अतिरिक्त अंक देगा जो कक्षा 10 के अंग्रेजी परीक्षा में एक प्रश्न का प्रयास कर रहे थे, जो गलत कहा गया था। सीबीएसई कक्षा 10 वीं अंग्रेजी पेपर 12 मार्च को आयोजित किया गया था। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन, सीबीएसई सभी सीबीएसई कक्षा के 10 वीं के छात्रों के लिए 2 अंक देने पर सहमत हुए हैं जिन्होंने उस एक प्रश्न का प्रयास किया है, जो गलत तरीके से छपा हुआ था। साथ ही सीबीएसई अधिकारियों ने दावों की पुष्टि करने के लिए संपर्क किया, हालांकि, उन्होंने इस पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। सीबीएसई ने कहा है कि मूल्यांकन के संबंध में बोर्ड का स्टैंड एक आंतरिक मामला है। और इसका खुलासा नहीं किया जा सकता है।

गलत प्रश्न के मिलेंगे 2 अंक

सी.बी.एस.ई. (सीबीएसई) ने समझाए हुए शब्दों में गलत सवाल के लिए अतिरिक्त अंक देने के लिए सहमति व्यक्त की है जिसमें समानार्थी शब्द खोजने के लिए छात्रों से पूछा गया था। छात्रों से पैरा दो, चार और पांच में धीरज, रुकावट और प्रेरणा के स्य्नोन्य्म्स् (synonyms) खोजने को कहे थे। जबकि वास्तव में स्य्नोन्य्म्स् तीसरा और छठा पैरा में थे।

आपको बता दें कि पेपर में एक और भ्रम जो कि छात्रों ने बताया था। सीबीएसई पाठ्यक्रम के अनुसार, छात्रों के दो उपन्यासों के बीच एक विकल्प था। सीबीएसई वेबसाइट पर दिए गए पाठ्यक्रम के अनुसार – स्कूलों को दो विस्तारित ग्रंथों (उपन्यास) के बीच चयन करना था। डायरी अॉफ ए यंग गर्ल (ऐनी फ्रैंक द्वारा) या स्टोरी ऑफ़ माई लाइफ़ (हेलेन केलर द्वारा) छात्रों को इन दोंनो में सो सिर्फ एक का ही अध्ययन करना था। और 10 अंकों के एक प्रश्न का प्रयास करना था। हालांकि, 12 मार्च को पेपर में, न तो उपन्यासों के नामों का उल्लेख किया गया था और ‘या’ गायब था। जो एक भ्रम की स्थिति में था।

सवाल के बारे में बात करते हुए, शिक्षकों ने सहमति व्यक्त की कि त्रुटि वहां थी और शायद यह संभवतः छात्रों को भ्रमित कर सकती थी। “यह 2 नंबर के प्रश्न को छोड़कर पेपर काफी आसान था। शिक्षकों ने बताया था कि साहित्य खंड छात्रों के लिए थोड़ा मुश्किल हो सकता था लेकिन शेष पेपर आसान था।

अपने विचार बताएं।