यूपी डीएलएड पहले सेमेस्टर का रिजल्ट जारी कर दिया गया है। पहले सेमेस्टर की परीक्षा 1 से 3 मई 2018 के बीच हुई थी। इस साल डीएलएड के लिए 1,91,111 उम्मीदवारों ने आवेदन किया था। जानकारी के मुताबिक पहले सेमेस्टर के परिणाम आने के बाद 1 लाख 41 हजार उम्मीदवार सफल हुए हैं। यूपी डीएलएड के नतीजे उम्मीदवार डीएलएड की आधिकारिक साइट www.updeledinfo.in पर जाकर देख सकते हैं।

गौरतलब है कि यूपी डीएलएड परीक्षा के लिए 1 लाख 91 हज़ार उम्मीदवारों ने आवेदन के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था। जिसमें से 189938 रजिस्ट्रेशन सफल हुए थे। जिसमें से 47199 उम्मीदवार यूपी डीएलएड पहले सेमेस्टर की परीक्षा में सफल नहीं हो पाए है। डीएलएड परीक्षा के अनुसार 75 प्रतिशत उम्मीदवार इस साल सफल हो पाए है।

आपको बता दें कि डीएलएड की परीक्षा के परिणाम घोषित नहीं होने के आक्रोशित में कुछ उम्मीदवारों ने 18 सितम्बर 2018 को एलनगंज कार्यालय पर प्रदर्शन किया था। उम्मीदवारों में डीएलएड परीक्षा के परिणाम ना घोषित होने के कारण बहुत गुस्सा आ गया था। क्योंकि उम्मीदवार यूपी डीएलएड परीक्षा का काफी समय से इंतजार कर रहें थे। हर बार परीक्षा के परिणाम की तिथि को आगे बढ़ा दिया जा रहा था। इसलिए उम्मीदवार में आक्रोष पैदा हो गए थे। लेकिन परिणाम आने के बाद उम्मीदवारों में बहुत शांति देखी जा रही हैं।

जानकारी के मुताबिक डीएलएड के साथ ही सेवारत अध्यापक (बेसिक पत्राचार प्रशिक्षण 1996) परीक्षा 2016 प्रथम वर्ष और द्वितीय वर्ष का भी परिणाम घोषित किया गया है। खबर के मुताबिक पहले वर्ष में लगभग 91 में से 54 उम्मीदवार पास हुए हैं। जिसमें से लगभग 37 उम्मीदवार फेल हैं वहीं हम दूसरे वर्ष की बात करें तो उसमें 240 में से 148 उम्मीदवार पास हुए।जबकि 63 उम्मीदवार फेल हुए।

डीएलएड प्रोग्राम होता क्या है। 
आज हम डीएलएड परीक्षा क्या होती हैं और किस लिए करवाई जाती है। थोड़ा विस्तार से चर्चा करेंगे। सबसे पहले अपको बता दूँ कि डीएलएड को हम (डिप्‍लोमा इन एलिमेंट्री एजुकेशन प्रोगाम) नाम से जानते हैं।
डीएलएड का डिप्लोमा वह उम्मीदवार करते हैं। जो टीचर बनना चाहते हैं। जिन्हें पढ़ना बहुत अच्छा लगता हैं। जानकारी के मुताबिक डीएलएड को प्राइमरी और अपर प्राइमरी स्‍कूल में सर्विस कर रहे अध्‍यापकों के लिए विशेष तौर पर तैयार किया गया है।
डीएलएड प्रोग्राम का फायदा यह होता है कि टीचर्स के स्किल्‍स और अधिक विकसित करने के साथ ही उन्‍हें टीचिंग में और दक्ष बनाया जाता है।आप किसी भी फिल्ड में चले जाओ लेकिन उस फिल्ड की आपको पहले से समझ जरुरी होनी चाहिए। इसलिए शिक्षा के अधिकार कानून के तहत शिक्षकों के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता एवं पेशेवर योग्यता हासिल करना जरूरी है।
डीएलएड प्रोग्राम में उम्मीदवारों को सिखाया जायेगा कि बच्चों को कैसे बढ़या जाता हैं। जो भी उम्मीदवार डीएलएड की परीक्षा के लिए आवेदन करना चाहते है। उनकी आयु 18 से 35 साल के बीच होनी चाहिए। डीएलएड एक फूल टाइम प्रोग्राम हैं। जिसको चार सेमेस्टर में बांटा हुआ हैं। शैक्षित योग्यता कि बात करें जिन उम्मीवारों ने  बीए, बीएससी, बीकॉम, बीसीए, बीबीए, बीटेक कर रखा हैं वे भी डीएलएड के लिए आवेदन कर सकते हैं।
डीएलएड की पढाई आप सरकारी और प्राइवेट दोनों संस्था से कर सकते हैं। अगर हम सरकारी संस्था की बात करें तो आपका डीएलएड कोर्स 10,000 रूपये में हो जाता हैं। वही प्राइवेट में डीएलएड की फीस 41 हजार चुकानी होती हैं।

अपने विचार बताएं।