दशहरा 2018

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि दशहरा कब है 2018 मेंदशहरा कितनी तारीख को हैदशहरा का महत्व क्या है तो आप हमारा आज का ये आर्टिकल पढ़ सकते हैं। इस आर्टिकल में आपको हम बताएंगे कि दशहरा कब है 2018, दशहरा कितनी तारीख को है, दशहरा का महत्व क्या है, दशहरा क्यों मनाया जाता है, दशहरा पर शायरी, दशहरा पर कविता। स्कूलों में दशहरा पर निबंध लिखेते हैं। दशहरा पर कविता भी सुनाई जाती हैं। तो आपको इस आर्टिकल में से दशहरा 2018 से जुडी़ सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। हम आपको आज के इस आर्टिकल में दशहरा का महत्तव के बारे में समझाएंगे। साथ ही आपको बताएंगे कि दशहरा क्यों मनाया जाता है, दशहरा मनाने का कारण क्या है। तो आइए आगे बढ़ते हैं और आपको बताते हैं कि दशहरा कब है 2018 में और क्यों मनाया जाता है। साथ हा पढ़ें दशहरा पर शायरी, दशहरा पर कविता।

दशहरा 2018 (Dussehra 2018)

दशहरा कब है 2018

2018 में दशहरा शुक्रवार को है यानी कि 19 अक्टूबर 2018 को मनाया जाएगा। भारत में कई त्यौहार ऐसे मनाए जाते हैं जो आपको बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देते हैं। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार जो इस बात को चिन्हित करता है वो दशहरा है। यह दिवाली से कुछ दिन पहले मनाया जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार दशहरा या विजया दशमी देश भर में अश्विन के महीने के उज्ज्वल पखवाड़े के 10 वें दिन मनाया जाता है। दशहरा (विजयदाशमी, दशरा, या कभी-कभी दशन के रूप में भी जाना जाता है) अश्विन के महीने के दसवें दिन हिंदू चंद्रमा कैलेंडर के अनुसार मनाया जाता है जो ग्रेगोरियन कैलेंडर के सितंबर या अक्टूबर के अनुरूप होता है।

दशहरा क्यों मनाया जाता है

दशहरा प्रमुख हिंदू त्यौहारों में से एक है। यह मनाया जाता है क्योंकि कि श्री राम ने 9 दिनों की लड़ाई के बाद दानव राजा रावण को मार डाला। और रावण की कैद से अपनी पत्नी देवी सीता को मुक्त करा लिया। इस दिन देवी दुर्गा ने राक्षस महिषासुर को मार डाला, और इसलिए ये आज भी विजयदाश्मी के रूप में मनाया जाता है। लोग प्रार्थना करते हैं और आज भी देवी दुर्गा से आशीर्वाद मांगते हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान श्री राम ने देवी दुर्गा की शक्ति के लिए प्रार्थना की थी। भगवान राम जिन 108 कमल से प्रार्थाना कर रहे थे उसमें से एक कमल हटा दिया जिसके साथ वह प्रार्थना कर रहे थे। जब श्री राम उनकी प्रार्थनाओं के अंत तक पहुंचे और महसूस किया कि एक कमल गायब था, तो उन्होंने अपनी आंखों को काटना शुरू कर दिया (क्योंकि उनकी आंखें कमल का प्रतिनिधित्व करती हैं और उनके लिए एक और नाम कमलनायन है) अपनी प्रार्थना पूरी करने के लिए। जिससे देवी उनकी भक्ति से प्रसन्न थीं और रावण पर उन्हें विजय दी।

दशहरा का महत्व

दशहरा एक महत्वपूर्ण हिंदू त्यौहार है। दशहरा त्यौहार का महत्व इसके धार्मिक मूल्य में है। यह हमें बुराई पर अच्छी जीत सिखाता है। यह रावण पर राम की जीत के सम्मान में पूरे देश में मनाया जाता है। यह आम तौर पर अक्टूबर के महीने में आता है। देश के विभिन्न हिस्सों में दशहरा त्योहार विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है। पंजाब में उत्सव लगभग दस दिनों तक जारी रहता है। सीखने वाले पंडित रामायण की कहानियों को पढ़ते हैं। लोग इसे महान सम्मान के साथ सुनते हैं। लगभग हर शहर में, राम लीला कई रातों के लिए आयोजित की जाती है। हजारों लोग इसका आनंद लेने के लिए जाते हैं।

दशहरा पर कविता

आज दशहरे की घड़ी आई
झूठ पर सच की जीत है भाई

रामचन्द्र ने रावण मारा
तोड़ दिया अभिमान भी सारा

एक बुराई रोज हटाओ
और दशहरा रोज मनाओ

हार के भी वो जीता रावण
मुक्ति पाई राम के चरणन्

दशहरा का तात्पर्य, सदा सत्य की जीत।
गढ़ टूटेगा झूठ का, करें सत्य से प्रीत॥

सच्चाई की राह पर, लाख बिछे हों शूल।
बिना रुके चलते रहें, शूल बनेंगे फूल॥

क्रोध, कपट, कटुता, कलह, चुगली अत्याचार
दगा, द्वेष, अन्याय, छल, रावण का परिवार॥

राम चिरंतन चेतना, राम सनातन सत्य।
रावण वैर-विकार है, रावण है दुष्कृत्य॥

वर्तमान का दशानन, यानी भ्रष्टाचार।
दशहरा पर करें, हम इसका संहार॥

विजय सत्य की हुई हमेशा,
हारी सदा बुराई है,
आया पर्व दशहरा कहता
करना सदा भलाई है.

रावण था दंभी अभिमानी,
उसने छल-बल दिखलाया,
बीस भुजा दस सीस कटाये,
अपना कुनबा मरवाया.

अपनी ही करनी से लंका
सोने की जलवाई है.

मन में कोई कहीं बुराई
रावण जैसी नहीं पले,
और अँधेरी वाली चादर
उजियारे को नहीं छले.

जिसने भी अभिमान किया है,
उसने मुँह की खायी है.

आज सभी की यही सोच है,
मेल -जोल खुशहाली हो,
अंधकार मिट जाए सारा,
घर घर में दिवाली हो.

मिली बड़ाई सदा उसी को
जिसने की अच्छाई है.

दशहरा पर शायरी

Dussehra ka yeh pyara tyohar, Jiwan mein laye khushiya apaar, Shri Ram ji kare apke ghr sukh ki barsat Shubh kamna hamari karey sweekar…!!

Share via Whatsapp

Jaise ram ne jeeta lanka ko, Waise app bhi jeeten saari duniya. Is dussehre mil jayen app ko, Duniya bhar ki saari khushiyan. * Shubh Dussehra *

Share via Whatsapp

अधर्म पर धर्म की विजय असत्य पर सत्य की विजय बुराई पर अच्छाई की विजय पाप पर पुण्य की विजय अत्याचार पर सदाचार की विजय क्रोध पर दया, क्षमा की विजय अज्ञान पर ज्ञान की विजय रावण पर श्रीराम की विजय के प्रतीक पावन पर्व विजयादशमी की हार्दीक शुभकामनायेँ।

Share via Whatsapp

Jyot se jyot jagate chalo, Prem ki ganga bahate chalo, Rah mein aaye jo deen dukhi Sab ko gale se lagate chalo. Din aaygega sabka sunehra, Isliye humari or se happy Dussehra.

Share via Whatsapp

Burayi ka hota hain vinaash, Dussehra lata hai umeed ki aas Ravan ki tarah apke dukho ka hoga naash Vijaydashmi ki shubhkamanayein…!!

Share via Whatsapp

शान्ति अमन के इस देश से अब बुराई को मिटाना होगा आतंकी रावण का दहन करने आज फिर श्री राम को आना होगा।

Share via Whatsapp

अपने विचार बताएं।