झारखंड डीएलएड

शिक्षक बनने के लिए वैसे तो कई कोर्स उपलब्ध है उनमें से एक है डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (डीएलएड)। जिन उम्मीदवारों को शिक्षक बनना है उनके लिए डीएलएड का कोर्स करना एक अच्छा ऑप्शन है। जो उम्मीदवार झारखंड राज्य से डीएलएड का कोर्स करना चाहते है वो उम्मीदवार यह आर्टिकल पूरा पढ़ सकते हैं। राजकीय प्राथमिक शिक्षक शिक्षा एंव प्रशिक्षण संस्थान केंद्रों में दो वर्षिय शिक्षक – प्रशिक्षण कोर्स के लिए आवेदन शुरु किए जाते हैं। जिन उम्मीदवारों को डीएलएड कोर्स में एडमिशन लेना होता है उन उम्मीदवारों को सबसे पहले आवेदन प्रक्रिया में भाग लेना होता है।

उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट से आवेदन पत्र प्राप्त कर सकते हैं। झारखंड डीएलएड के लिए आवेदन पत्र भरते समय उम्मीदवारों को आवेदन शुल्क का भी भुगतान करना होता है। इसके बाद ही आवेदन प्रक्रिया को पूरा माना जाता है। झारखंड डीएलएड के आवेदन पत्र. चयन प्रक्रिया से जुड़ी सारी जानकारी आप यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

झारखंड डीएलएड

झारखंड डीएलएड की परीक्षा उन उम्मीदवारों के लिए आयोजित की जाती है जो उम्मीदवार शिक्षक बनना चाहते हैं। यह कोर्स 2 साल का होता है। जिसमें उम्मीदवारों को शिक्षक बनने की ट्रेनिंग दी जाती है। इसके लिए उम्मीदवारों के 10वीं, 12वीं और ग्रेजुएशन में अंको को ध्यान में रखा जाता है। झारखंड डीएलएड से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप यह आर्टिकल पूरा पढ़ सकते हैं।

झारखंड डीएलएड पात्रता मापदंड

  • उम्मीदवार को 12वीं कक्षा में 50% अंक प्राप्त होने जरुरी हैं।
  • उम्मीदवार को भारत का नागरिक होना जरुरी है।

झारखंड डीएलएड आवेदन पत्र

झारखंड राज्य से डीएलएड कोर्स करने के लिए उम्मीदवारों को सबसे पहले आवेदन पत्र को भरना है। उम्मीदवारों को आवेदन पत्र आधिकारिक वेबसाइट से प्राप्त होता है। उम्मीदवारों को आवेदन पत्र में पूछी गई सभी जानकारी को पूरा भरना है। उम्मीदवारों को आवेदन पत्र में अपनी पर्सनल डिटेल्स, एजुकेशन क्वीलीफीकेशन की विस्तार से जानकारी को डालना है। उम्मीदवारों को सभी जानकारी ध्यान से डालनी होती है क्योंकि इसी जानकारी के आधार पर उम्मीदवारों को अगले चरण के लिए बुलाया जाता है। जो उम्मीदवार आवेदन प्रक्रिया को सभी नियमों के साथ पूरा करते हैं उन उम्मीदवारों के आवेदन पत्र स्वीकार कर लिए जाते हैं।

झारखंड डीएलएड के लिए आवेदन करते समय उम्मीदवारों को आवेदन शुल्क का भी भुगतान करना होता है। उम्मीदवारों को बता दें कि आवेदन शुल्क भुगतान के बाद ही आवेदन प्रक्रिया को पूरा माना जाता है। सभी उम्मीदवारों को तय किए नियमों के अनुसार आवेदन प्रक्रिया को पूरा करना होता है।

झारखंड डीएलएड चयन प्रक्रिया

झारखंड डीएलएड कोर्स करने में इच्छा रखने वाले उम्मीदवारों को सबसे पहले आवेदन प्रक्रिया में भाग लेना होता है। उम्मीदवारों को आवेदन पत्र आधिकारिक वेबसाइट से प्राप्त होता है। उम्मीदवारों को आवेदन पत्र में पूछी गई सारी जानकारी को सही से और पूरा भरना है। आवेदन पत्र में भरी गई जानकारी के अनुसार ही उम्मीदवारों को अगले चरण के लिए बुलाया जाता है। सभी उम्मीदवारों को आवेदन पत्र के साथ आवेदन शुल्क का भी भुगतान करना है। आवेदन शुल्क भुगतान के बाद ही आवेदन प्रक्रिया को पूरा माना जाता है।

झारखंड डीएलएड आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के बाद मेरिट लिस्ट जारी की जाती है। उम्मीदवारों के द्वारा आवेदन पत्र में भरी गई जानकारी के अनुसार मेरिट लिस्ट जारी की जाती है। झारखंड डीएलएड मेरिट लिस्ट के आधार पर रैंक जारी की जाती है। मेरिट लिस्ट जारी होने के बाद योग्य उम्मीदवारों को अपना पसंदीदा कॉलेज का चयन करने का मौका मिलता है। उम्मीदवार कितने भी कॉलेज का चयन कर सकते हैं।

झारखंड डीएलएड मेरिट लिस्ट जारी होने के बाद उम्मीदवारों को कांउसलिंग के लिए बुलाया जाता है। कांउसलिंग में उम्मीदवारों को मेरिट लिस्ट में प्राप्त अंक और चुने गए कॉलेजों के अनुसार एडमिशन दिया जाता है। कांउसलिंग में उम्मीदवारों को झारखंड डीएलएड कोर्स करने के लिए कॉलेज निर्धारित किए जाते हैं। सभी उम्मीदवारों को कॉलेज मिलने के बाद उम्मीदवारों को कॉलेज में डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए बुलाया जाएगा।

झारखंड डीएलएड रिजल्ट

झारखंड डीएलएड आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के बाद उम्मीदवारों के रिजल्ट जारी किए जाते हैं। आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के कुछ दिन बाद रिजल्ट आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किए जाते हैं। उम्मीदवारों के द्वारा आवेदन पत्र में भरी जानकारी के अनुसार मेरिट लिस्ट जारी की जाती है। आपको बता दें कि मेरिट लिस्ट में नाम उम्मीदवारों के 10वीं, 12वीं और ग्रेजुएशन में प्राप्त अंकों के आधार तैयार की जाती है। मेरिट लिस्ट में स्थान पाने वाले उम्मीदवारों की रैंक निर्धारित की जाती है जिसके आधार पर चयन किया जाता है।

झारखंड डीएलएड कांउसलिंग

उम्मीदवारों के नाम की मेरिट लिस्ट जारी होने के बाद उम्मीदवारों को कॉलेज चुनने को कहा जाता है। उम्मीदवार एक से अधिक कॉलेज का चयन कर सकते हैं। मेरिट लिस्ट के आधार पर उम्मीदवारों को निर्धारित कॉलेज में एडमिशन दिया जाता है। इसके बाद उम्मीदवारों को जिस कॉलेज में एडमिशन दिया गया है उस कॉलेज में आगे की प्रक्रिया को पूरा करना होता है जैसे की फीस, डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन आदि।

सभी राज्य का डीएलएड परीक्षा यहां से देखें

राज्य डीएलएड परीक्षा
उत्तर प्रदेश यहां से देखें
बिहार यहां से देखें
राजस्थान यहां से देखें
झारखण्ड यहां से देखें
छत्तीसगढ़ यहां से देखें
मध्य प्रदेश यहां से देखें
दिल्ली यहां से देखें
हरियाणा यहां से देखें
उत्तराखण्ड यहां से देखें
हिमाचल प्रदेश यहां से देखें

डीएलएड

अपने विचार बताएं।