सरकारी नौकरी में ग्रुप ए,बी,सी और डी का स्थान और वेतन जानिए

भारत में तमाम उम्मीदवार सरकारी नौकरी के लिए सालों तैयारियां करते रहते है। लेकिन कुछ ही उम्मीदवारों का सपना पूरा हो पाता है। छात्र माध्यमिक शिक्षा से ही सरकारी नौकरी की तैयारी शुरू कर देते है। भारत में एक सरकारी नौकरी के लिए लाखों उम्मीदवार आवेदन करते है। आज हम उन्हीं सरकारी नौकरी 2018 की बात करेंगे। जिसके लिए उम्मीदवार रात-दिन एक कर देते है। आज हम सरकारी नौकरी में ग्रुप ए,बी,सी और डी के बारे में बात करेंगे। इन सभी ग्रुप पदों के लिए अलग-अलग वेतन दिया जाता है। और शैक्षित योग्यता भी सभी पदों की अलग-अलग होती है। उन्हीं पदों पर हम आज विस्तार से चर्चा करेंगे।यदि आप भी सरकारी कर्मचारी के रूप में करियर की तलाश में हैं। तो सबसे पहले आपको अपनी संभावनाओं को समझना है।

सरकारी नौकरी में ग्रुप ए,बी,सी और डी का स्थान और वेतन जानिए

सरकारी नौकरी में हर उम्मीदवार का पद अगल-अलग होता है। भारतीय सरकार या राज्य सरकार सार्वजनिक कर्मचारियों को विभिन्न समूह रैंकिंग में अलग करती है और आगे, इन समूहों को विभिन्न स्तरों में विभाजित किया जाता है। आज हम उन्हीं विभिन्न समूह रैंकिंग की बात करने जा रहें है। तो चलिए विस्तार से चर्चा करते है।

  1. ग्रुप – ए 
  2. ग्रुप – बी 
  3. ग्रुप – सी और डी 

पदों के अनुसार ग्रुप – ए नियुक्ति और अधिकार के मामले में उच्चतम स्थान पर है और जबकि समूह सी और डी सबसे कम स्थान पर है। इस तरह ग्रुप के अनुसार भारत सरकार ने वेतन और योग्यता को भी विभाजित किया है। इन सबकी जानकारी हम नीचे ग्रुप द्वारा देंगे ।

ग्रुप ए 

  •  जो उम्मीदवार ग्रुप-ए के लिए नियुक्त होते हैं। वे अधिकारी होते हैं और सरकारों में विभिन्न प्रबंधकीय पदों पर नियोजित किये जाते हैं। ग्रुप- ए के उम्मीदवारों का पद सबसे ऊंचा होता है।जो उच्चतम उपलब्ध नौकरियों में से एक हैं। आपको बता दें कि इन अधिकारियों को भारत के राष्ट्रपति के अधिकार में नियुक्त किया जाता है। उदाहरण के लिए: आईएएफ (भारतीय सशस्त्र बलों), एआईएस (अखिल भारतीय सेवाएं), और वही हम वैज्ञानिक दुनिया में आने वाले उम्मीदवारों की बात करें तो हमे डीआरडीओ, इसरो, सीएसआईआर, बीएआरसी नाम सुनाई देंगे। केंद्रीय भारत सिविल सेवा में आईएएस, आईआरएस, आईपीएस, आईएफएस, आईआरएस पद के लिए उम्मीदवार तैयारी करते है।

वेतन 

  • जिन उम्मीदवारों का चयन ग्रुप ए के लिए हो जाता है। वो उम्मीदवार बहुत खुशनसीब होते है समाज में दौलत शौहरत के साथ सम्मान भी मिलता है। अगर हम ग्रुप-ए की वेतन की बात करें तो लगभग 37,400 से 90,000 रूपये प्रति महीना मिलता है।अगर उम्मीदवार में अच्छी काबिलियत हो तो 2,50,000 प्रति महीना वेतन भी हो सकता है।

ग्रुप – बी (गजेटेड ऑफिसर)

  • ग्रुप – बी गजेटेड ऑफिसर की पहचान समाज में अगल ही होती है। जो उम्मीदवार ग्रुप-बी गजेटेड ऑफिसर के रूप में अपना करियर शुरू करना चाहते है तो उनको सबसे पहले यूपीएससी परीक्षा पास करनी होगी। परीक्षा बाद ही उनका चयन किया जाता है। आपको बता दें कि ग्रुप-बी के अधिकारियों को किसी भी सरकारी संगठन के विभाग प्रमुखों द्वारा नियुक्त किया जा सकता है।

वेतन 

  • ग्रुप-बी के सभी उम्मीदवारों को प्रशासन के आधार पर 56,100 रुपये से 78,800 लगभग वेतन दिया जाता है।

ग्रुप – बी (नॉन गजेटेड )

  • नॉन गजेटेड के लिए भी लाखों उम्मीदवार चुने जाते है। गजेटेड ऑफिसर और नॉन गजेटेड  में ज्यादा अंतर नहीं होता है। नॉन गजेटेड की समाज में एक अहम भूमिका होती है।नॉन गजेटेड में पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग्स (पीएसयू) और नेशनल बैंकों में काम कर रहे कर्मचारी कार्यालय पर्यवेक्षकों, राज्य निरीक्षकों, कार्यालय अधिकारियों, राज्य पुलिस अधिकारियों आदि के साथ श्रेणी में आते हैं।

वेतन

  • नॉन गजेटेड के लिए उम्मीदवार को 34,500 से 53,100 रुपये के बीच वेतन दिया जायेगा है।

ग्रुप -डी और सी 

  • ग्रुप -डी और सी को सबसे निचले पायदान पर रखा गया है लेकिन ऐसा नहीं है कि इनका समाज में मान सम्मान नहीं होता है। सबसे ज्यादा पदों पर भर्ती ग्रुप सी और डी पर ही होती है। इसके के लिए उम्मीदवार को एसएससी की परीक्षा देनी होती है। उम्मीदवार का चयन (कर्मचारी चयन आयोग) प्रवेश परीक्षाओं के माध्यम से ही किया जाता है।

उदाहरण के लिए 

  • धारा प्रमुख, प्रमुख क्लर्क, आशुलिपिक, कर सहायक, टाइपिस्ट, टेलीफोन ऑपरेटर, आदि पदों के लिए ग्रुप सी और डी की भर्ती की जाती है।

वेतन 

  • ग्रुप -सी और डी के लिए उम्मीदवा को 5200 से 20200 के बीच प्रति महीना वेतन दिया जाता है।

अपने विचार बताएं।