छत्तीसगढ़ पुलिस

सरकारी नौकरी की चाह रखने वाले विद्यार्थी इस बात से अच्छे से मतलब रखते हैं कि उन्हें कितनी परीक्षाये देनी पड़ती हैं ऐसा नहीं कि अगर वे बैंक के लिए पढ़ रहे हैं तो भी आपको एक नहीं अलग अलग बैंक के लिए अलग अलग परीक्षाएं देनी पड़ती हैं साथ ही अगर वे किसी और तरफ जाना चाहते हैं तो भी उसके लिए उन्हें अलग अलग परीक्षाएं देनी पड़ती हैं और लगभग सिलेबस तो सबका शामे रहता है पर भी परीक्षा का लेवल सबका अलग अलग रहता है जिसकी वजह से उम्मीदवारों को अलग अलग तैयारी करनी पड़ती है। लेकिन अब उनके लिए ख़ुशी की बात है केंद्र सरकार की तरफ से एक कॉमन परीक्षा यानि (सीईटी )आयोजित कराई जाएगी। इस बारे में ही पूरी जानकारी हम आपको यहाँ दे रहे हैं।

अब होगा कॉमन एंट्रेंस एग्जाम

हर साल सरकार की तरफ से अलग अलग सरकारी नौकरियों के लिए काफी परीक्षाएं कराई जाती हैं जैसे कि रेलवे में जाने कि चाह रखने वाले को रेलवे के लिए निकाली गयी कुछ कुछ समय के अंतराल पर परीक्षा के लिए आवेदन करने पड़ते हैं। साथ ही अगर वे एसएससी की परीक्षा के लिए जाना चाहते हैं तो उन्हें उसकी फिर अलग से परीक्षा देनी पड़ती है और उसके लिए फिर अलग अलग से तैयारी करनी पड़ती है और काफी बार तो ऐसा होता है कि उम्मीदवार दोनों में से किसी भी परीक्षा में सफल नहीं हो पाता ऐसे में सभी उम्मीदवारों के लिए बहुत ही ख़ुशी का मौका है अब उन्हें बहुत साड़ी परीक्षा देने की जरुरत नहीं है।

ये भी पढ़ें : आरपीएफ भर्ती 2018 के लिए आवेदन करें जल्द।

अभ्यर्थियों को बार बार परीक्षा के बोझ से बचाने के लिए केंद्र सरकार ने यह फैसला लिया है। इसमें एसएससी की और से सबसे पहले यह परीक्षा होगी और यह अभी ग्रेजुएट लेवल पर होगी जहाँ तक यह यह परीक्षा एसएससी के द्वारा फरवरी महीने में कराई जाएगी। इस परीक्षा को पास करने के बाद दूसरे चरण में उम्मीदवार सीधे बैंक ,रेलवे और एसएससी की परीक्षाओं के दूसरे चरण में शामिल हो जायेंगे। और सीईटी  वैधता दो वर्षो तक होगी और इसी अंको पर वे सभी परीक्षाओं के दूसरे चरण में जा पाएंगे।

ये भी पढ़ें : आर्मी रैली भर्ती 2018 प्रक्रिया की पूरी जानकारी।

साथ ही मध्य छेत्र के छेत्रीय निदेशक राहुल सचान ने बताया कि 10वीं ,12वीं और ग्रेजुएशन लेवल पर अलग अलग सीईटी होगा। राहुल सचान ने बताया सीईटी कराने का मुख्य उद्देश्य बार -बार परीक्षा में होने वाली भीड़ को भी कम करना है। हर परीक्षा का आयोजन अलग अलग एजेंसीयो द्वारा कराया जाता है जिसमे काफी खर्चा  भी होता है तो समय और धन और साथ ही अभ्यर्थियों के सर से परीक्षा का बोझ काम करने के लिए यह निर्णय लिया है। तो छात्र तैयार हो जाये और अपनी तयारी शुरु कर दें और इसके लिए छात्रों को भी जगह जगह आवेदन करके ज्यादा शुल्क नहीं अदा करना होगा।

ये फैसला तो सरकार की तरफ से लिया गया है पर सबसे बड़ी बात तो यह है कि जिन उम्मीदवारों को यह परीक्षा देनी है वो सब क्या सोचते हैं क्या सरकार द्वारा उठाया गया ये कदम सही है या नहीं ? हमे कमेंट करके बताये।

अपने विचार बताएं।