शिक्षण का काम हमारे समाज में बहुत अच्छा माना जाता है और गुरु (शिक्षक) का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। प्राचीन काल से ही हमारे देश में गुरुओं का स्थान सबसे अलग है। “गुरू गोविन्द दोऊ खड़े, काके लागूं पांय” कबीर दास जी के दोहे की इस लाइन से ही गुरु के स्थान को आसानी से समझा जा सकता है। जैसे -जैसे समय बीतता गया समाज में अध्यापन कार्य एक व्यवसाय का रूप लेने लगा है। आज बहुत अधिक संख्या में स्कूल – कॉलेज खुलते जा रहे हैं तो इसके साथ ही अध्यापकों की आवश्यकता भी बढ़ गयी है।

आज प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च माध्यमिक सरकारी स्कूल में प्रतिवर्ष बहुत अच्छी संख्या में टीचर भर्ती की जाती है। टीचर भर्ती विभिन्न केंद्रीय स्कूलों, राज्य सरकार स्कूलों, आर्मी स्कूलों, नवोदय विद्यालय आदि में बहुत संख्या में आती हैं। राज्य सरकार शिक्षा बोर्ड अध्यापक भर्ती के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) को अनिवार्य कर दिया है। राज्य और केंद्रीय निकाय एक उम्मीदवार की शिक्षा की योग्यता निर्धारित करने के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षण आयोजित करते हैं। सेंट्रल टीचर एलिग्बिलिटी टेस्ट (सीटीईटी) विशेष रूप से भारत में सबसे बड़ा शिक्षक पात्रता परीक्षण है जो कि सीबीएसई द्वारा आयोजित किया जाता है।

उच्च शिक्षा में शिक्षण कार्य के लिए, राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा या नेट यूजीसी नेट, सीएसआईआर नेट, एएसआरबी नेट जैसी परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं। टीचिंग जॉब्स के लिए इच्छुक उम्मीदवार हमारे इस पेज से पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट (नेट)

टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (टीईटी)

स्टेट टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट

टीचर रिक्रूटमेंट

अपने विचार बताएं।