जो विद्यार्थी 2019 में 10वीं की परीक्षा देने जा रहे हैं उनके दिमाग में बोर्ड परीक्षाओं में टॉपर बनने की चाह आवश्य होगी। बोर्ड की परीक्षा देने वाला प्रत्येक विद्ययार्थी चाहता है कि वह अच्छे अंकों से पास हो। इसके लिए वह दिन रात मेहनत करता है। हमने अक्सर यह देखा या सुना होगा कि किसी विद्यार्थी ने कम मेहनत के बावजूद परीक्षा में टॉप कर दिया जबकि कुछ विद्यार्थी रात-दिन की तैयारी के बावजूद परीक्षा में अच्छे अंक लाने से वंचित रह जाते हैं, ऐसा कई कारणों से हो सकता है जिसमें कमजोर याददाश्त, तनाव, गलत खान-पान, भरपूर नींद न लेना आदि बातें शामिल हो सकती हैं, लेकिन परीक्षा के लिए रणनीतिक ढंग(स्मार्ड स्टडी) से तैयारी न करना  इसके प्रमुख कारणों में से एक है। आपने कई लोगों को यह सलाह देते भी सुना होगा कि स्मार्ड स्टडी करिये। जी हां, कम पढ़ाई करने के बावजूद अच्छे अंक लाने वाले विद्यार्थी स्मार्ट स्टडी ही किया करते हैं। तो कैसे की जाती है स्मार्ड स्टडी, कैसे बनें 10वीं की परीक्षा में टॉपर, कैसे की जाए 10वीं की पढ़ाई, और वो कौन सी बातें है जो 10वीं में आपको टॉपर बना सकती हैं आज हम आपको इसी महत्वपूर्ण विषय के बारे में बताने जा रहे हैं। इस वर्ष 10वीं की परीक्षा देने जा रहे छात्र इस आलेख को ध्यान से पढ़ें ताकि वह भी 10वीं में टॉपर बन सकें। आपको यहां बोर्ड परीक्षा की तैयारी 2019 के बारे में भी जानकारी दी जाएगी।

10वीं की पढ़ाई कैसे करें

अक्सर देखा गया है कि 10वीं की परीक्षा सिर पर आते ही विद्यार्थी कुछ ज्यादा ही तनाव लेने लगते हैं। कुछ आवेेश में आकर ग़लत कदम भी उठा लेते हैं। लेकिन ऐसा करने से कोई लाभ नहीं। ऐसा कोई कदम उठाने से बेहतर है अपने आप में सुधार लाया जाये। इस तरीके से पढ़ाई की जाए कि परीक्षा देने वाले टॉपरों में हमारा नाम अंकित हो जाये। जो विद्यार्थी इस लेख को पढ़ रहे हैं हम उन्हें शत् प्रतिशत गारन्टी के साथ कह सकते हैं कि कोई भी व्यक्ति टॉपर बन सकता है, बस जरूरत है आपकी इच्छा शक्ति की और थोड़े से मार्गदर्शन की। और अगर आपके पास कोई मार्ग दर्शक नहीं है तो हमारा यह लेख आपका मार्ग दर्शन करने में सहायक बन सकता है तो आइये हम आपको बताते हैं कि कैसे बनें 10वीं में टॉपर….

नीचे कुछ महत्वपूर्ण टिप्स दिये जा रहे हैं जिनको अपनाकर आप भी 10वीं की परीक्षा को आसानी से टॉप कर सकते हैं-

रहें शुरूआत से सतर्क

ज्यादातर विद्यार्थियों की यह आदत होती है कि वह परीक्षा के नजदीक आने पर खूब मेहनत करते हैं, लेकिन पूरे वर्ष वह किताब तक नहीं छूते।  इसके अलावा वह परीक्षा देने से पहले पूरी रात जागकर पढ़ाई करते हैं। ऐसे विद्यार्थियों को विपरीत परिणाम देखने को मिलते हैं। अगर आपको अच्छे परिणाम लाने हैं तो आपको शुरूआत से ही मेहनत करनी होगी। हर विषय पर बराबर ध्यान देना होगा और ऐसा तभी हो सकता है जब आप शुरूआत से परीक्षा की तैयारी कर रहे हों। परीक्षा के अंतिम क्षणों में केवल रिवीजन करना ही फायदेमंद साबित होगा।

टाइम मैनेजमेंट

किसी भी परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए टाइम मैनेजमेंट करना बेहद जरूरी है। किस विषय को कितना समय देना है इसका समय व्यवस्थित करें। कठिन विषयों यानि जिन विषयों पर आपकी पकड़ कमजोर हो उनविषयों पर ज्यादा ध्यान दें। टाइम मैनेजमेंट करने से आप सभी विषयों पर समानरूप से ध्यान दे पाएंगे।

सिलेबस के हिसाब से करें तैयारी

किसी भी परीक्षा की तैयारी अगर सिलेबस के  अनुरूप की जाए तो आप अनावश्यक सामग्री को पढ़ने से बच जाते हैं। कई विद्यार्थी ऐसे होते हैं कि वो नई-नई किताबों के अध्ययन में लगे रहते हैं। उन्हें यह पता ही नहीं होता कि परीक्षा में क्या क्या प्रश्न पूछे जाएंगे और अंतिम समय में वो हड़बड़ा जाते है। इससे उनका रिजल्ट बुरी तरह प्रभावित होता है। इसलिए अपने सिलेबस को पहले ध्यानपूर्वक पढ़े। यह जांचे कि परीक्षा में किस टॉपिक से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे उसी के अनुसार मेहनत करें। ऐसा करना टॉपर बनने की दिशा में कारगर कदम होगा।

समझें रिवीज़न का महत्व

किसी भी विषय की परीक्षा देने से पूर्व उस विषय का अगर रिविज़न कर लिया जाये तो परीक्षा में सफल होने के चांस कई गुना बढ़ जाते हैं। कई विद्यार्थियों के साथ अक्सर ऐसा होता है कि वह शुरूआत से तो उस विषय का अध्ययन करते हैं लेकिन अंत समय में रिवीजन न कर पाने के कारण बहुत कुछ भूल जाते हैं। इसलिए हम आपको सलाह देते हैं कि किसी भी विषय का रिवीजन करने के लिए अपने पास समय जरूर बचा के रखें।

लिखकर करें परीक्षा की तैयारी

किसी भी परीक्षा का अगर लिखित रूप से अध्ययन किया जाए तो यह ज्यादा प्रभावशाली होता है। लिखकर याद करने से आप उस कंटेंट को लंबे समय तक याद रख पाते हो जबकि अगर आप मौखिक रूप से याद करने की कोशिश करते हो तो कुछ समय बाद वह आपकी मेमोरी से डिलीट हो जाता है। हालांकि प्रत्येक व्यक्ति का याद करने का अलग अलग तरीका हो सकता है, लेकिन किसी भी लेख को लिखकर याद करना आपके लिए ज्यादा फायदेमंद साबित होगा।

दैनिक आहार एवं योग

परीक्षा में अच्चे अंक लाने के लिए केवल पढ़ाई  करना ही जरूरी नहीं होता। पढ़ाई के अलावा आपका खान-पान, आपकी दिनचर्या  और शारीरिक तंदरुस्ती का भी इसमें विशेष महत्व है। परीक्षार्थियों को समय पर भोजन ग्रहण करना चाहिए। इसके अलवा अपनी दैनिक दिनचर्या का टाइम टेबल निश्चित कर  लेना चाहिये। सुनिश्चित करें कि दैनिक आहार पौस्टिक हो जिससे परीक्षा की तैयारी के दौरान खर्च हुई आपकी एनर्जी आप दोबारा प्राप्त कर सकें। अपने आपको तंदरुस्त रखने के लिए नियमित रूप से योग करें। योग करने से आप शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से फिट रहेंगे। इससे आपका मन एकाग्रचित होगा और आपको याद करने में भी आसानी होगी। जितना संभव हो सके चाय, कॉफी का सेवन कम कर दें। रात में जागने के लिए कॉफी का प्रयोग बिल्कुल न करें।

भरपूर नींद लें

परीक्षा के समय परीक्षार्थी इतना तनाव सिर पर लाद लेते हैं कि वह भरपूर नींद ही नहीं लेते। ऐसा करना विद्यार्थियों की सेहत के लिए बहुत हानिकारक होता है। ऐसा करने से शारीरिक नुकसान तो होता ही है साथ ही जो भी आपने याद किया है आप उसे भी भूल सकते हैं। इसलिए प्रतिदिन 6 से 7 घंटे की नींद आवश्य लें। परीक्षा की रात समय पर सोने की कोशिश करें और कुछ भी नया पढ़ने से बचें। अभी तक जो आपने पढ़ा है केवल उसी का रिवीज़न करना आपके लिए हितकर होगा।

अनसॉल्व्ड पेपर करें सॉल्व

अनसॉल्व्ड पेपर में दसवीं की पिछली परीक्षाओं में आये प्रश्न दिये हुए होते हैं। इन पेपर्स में से काफी प्रश्न आने की संभावना रहती है। विद्यार्थी कम से कम पिछले तीन वर्षों के पेपर सॉल्व करने की कोशिश ज़रूर करें। इससे आपको पता चल जाएगा कि आप कितने पानी में है और आपकी परीक्षाओं को लेकर कितनी तैयारी है। बाजार में अनसॉल्व्ड पेपरों की बहुत सी किताबें आती है आप अपनी सहूलियत के हिसाब से कोई भी किताब चुन सकते हैं। कुछ चुनिंदा अनसॉल्व्ड पेपरों की किताबें ऐसी भी हैं जो विद्यार्थियों के मध्य काफी प्रसिद्द हैं।

परीक्षा में प्रश्नों को लिखने का तरीका

कुछ विद्यार्थियों को परीक्षा परिणाम आने पर यह शिकायत रहती है कि हमने तो फलां विषय का पेपर बहुत बढ़िया ढंग से दिया था लेकिन हमारे नंबर उम्मीद से बहुत कम आये हैं। क्या आप जानते हैं ऐसा क्यूं होता है। इसके पीछे परीक्षा में प्रश्नों का उत्तर सही ढंग से न लिखना भी हो सकता है। दिये गये प्रश्नों का सही क्रम में उत्तर दें। कोशिश करें कि सारे प्रश्नों का उत्तर क्रमश: दिया जाए। ऐसा करने से जांच कर्ता कन्फ्यूज नहीं होगा और आपके नंबर भी नहीं कटेंगे। कभी कभी प्रश्नों का क्रम ऊपर नीचे करने पर जांच करता को लगता है कि परीक्षार्थी ने या तो सभी प्रश्न हल नहीं किये हैं या प्रश्नों का उत्तर दोहरा दिया है। इसलिये प्रश्नों का क्रम में उत्तर देने की कोशिश करें। इसके अलावा

  • अपने लेखन पर ध्यान दें।
  • चित्रों(डायग्राम)का प्रयोग करें।
  • सही पेन का इस्तेमाल करें।
  • उत्तर पुस्तिका पर ज्यादा काट-पीट न करें।
परीक्षा के लिए दही शक्कर, तुलसी खाकर निकलें

जब आप किसी शुभ काम के लिए निकलते  हो तो आपकी मां आपको  दही शक्कर खिलाकर भेजती होंगी। आप सोच रहे होंगी कि यह कोई टोना टोटका होता है जिससे कि हमारा कार्य सही बने, लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है दोस्तों। दसअसल दही शक्कर इसलिए खिलाया जाता है ताकि आपको नींद न आये। इसके साथ ही यह आपके पेट को भी ठीक रखता है। इसके अलावा तुलसी खाना भी फायदेमंद साबित होता है। तुलसी खाने से आपको  परीक्षा के समय नींद भी नहीं आएगी और आपका ऑक्सीजन लेवल भी बना रहेगा।

संगीत

परीक्षा की तैयारी के दौरान हर 40 मिनट के बाद कुछ समय का ब्रेक लें और संगीत सुनें। संगीत सुनने से आप पढ़ाई से उकताओगे नहीं और आप हमेशा तरोताजा महसूस करेंगे। ऐसे समय में जब दिमाग पर बहुत ज्यादा दवाब हो संगीत आपको तरोताजा रखने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। ब्रेक के दौरान कुर्सी पर शांत बैठ जाएं और आंख बंद करके अपने पसंदीदा संगीत का आनंद लें।

हम उम्मीद करते हैं कि उपरोक्त टिप्स आपको 10 की परीक्षा में टॉपर बनाने में कारगर साबित होंगे। हम आपके सफल भविष्य की कामना करते हैं। परीक्षा के लिए शुभकामनाएं।

अपने विचार बताएं।