यूपी बोर्ड के द्वारा होने वाली हाईस्कूल और इंटर की परीक्षा कल यानि दिनांक 07 फरवरी 2019 से शुरू होने वाली है। हाईस्कूल की परीक्षा 28 फरवरी 2019 तक चलेगी वहीं इंटर की परीक्षा 02 मार्च 2019 को समाप्त होगी। बता दें कि यूपी बोर्ड द्वारा जारी टाइम टेबल के अनुसार यह परीक्षा दो शिफ्ट में आयोजित होने वाली है। पहले शिफ्ट की परीक्षा सुबह 8 बजे शुरू हो कर 11:15 बजे समाप्त होगी। दूसरे शिफ्ट की परीक्षा दोपहर 2 बजे से शुरू हो कर शाम 5:15 तक चलेगी।

परीक्षा में नक़ल रोकने के लिए पुख्ता इंतजाम किया गया है। यूपी बोर्ड परीक्षा में परीक्षा में नकल रोकने की जिम्मेदारी केंद्राध्यक्षों व कक्ष निरीक्षकों की होगी। डीएम सुरेंद्र सिंह का कहना है कि यूपी बोर्ड की होने वाली परीक्षा में यदि नकल हुई तो कक्ष निरीक्षक का जेल जाना तय है। नक़ल करने पर रोक लगाने के लिए  इस बार उत्तर पुस्तिका के हर पृष्ठ पर अनुक्रमांक व उत्तर पुस्तिका क्रमांक लिखा जाएगा। इससे उत्तर पुस्तिका के बीच में कोई अन्य पृष्ठ (पेज) जोड़ कर नक़ल करने पर रोक लगेगी। डीआईओएस राजकुमार के अनुसार परीक्षा की तैयारी पूरी हो गई है। उन्होंने यह भी बताया कि केंद्रों के सभी केंद्र व्यवस्थापकों से संपर्क के लिए एक वॉट्सऐप ग्रुप तैयार किया गया है। केंद्र व्यवस्थापकों को इस ग्रुप में हर पल की जानकारी देना होगा। इस ग्रुप में डीएम, एसपी, डीआईओएस के अलावा बीएसए, एडीएम व एएसपी नार्थ व साउथ जुड़े होंगे।

इसके अलावा सभी परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। कई केंद्रों में सीसीटीवी कैमरों के साथ वॉइस रिकॉर्डर भी लगाया गया है। परीक्षा केंद्र में परीक्षार्थी स्मार्ट वॉच, ब्लू टूथ, हेडफोन, ईयर बड, स्मार्ट पेन आदि अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण ले जाने से रोकने के लिए परीक्षार्थियों का शारीरिक जांच भी किया जाएगा। शारीरिक जांच होने के बाद ही परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र में जाने की अनुमति दी जाएगी। सामूहिक नकल व अन्य गड़बड़ी होने पर संबंधित केंद्र अध्यक्षों के अलावा मजिस्ट्रेट के खिलाफ भी प्राथमिकी दर्ज की जा सकती है।

गौरतलब है की यूपी बोर्ड की दसवीं और बारहवीं की परीक्षा के लिए राज्य में लगभग 8,354 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। राज्य में कुल 1,314 परीक्षा केंद्रों को संवेदनशील और लगभग 448 परीक्षा केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित कर दिया गया है। इन परीक्षा केंद्रों पर खास सतर्कता बरती जाएगी। बता दें कि ऐसे स्कूलों में परीक्षा केंद्र नहीं बनाया गया है जहां पिछले 3 वर्षों से बोर्ड की परीक्षा आयोजित नहीं की गई है या जो पहले से ब्लैक लिस्टेड हैं। इतनी सावधानियां बरतने के बाद अब देखना यह है कि इस वर्ष यूपी बोर्ड परीक्षा में नकल पर कितनी लगाम लगाई जा सकती है।

Mody University Apply Now!!

अपने विचार बताएं।