यूपी टीईटी परीक्षा आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा बोर्ड यानि यू.पी.बी.ई.बी द्वारा आयोजित किया जाता है । up tet exam यूपी के विद्यालयों में प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर के शिक्षकों की भर्ती के लिए है । जिसमें प्रत्येक वर्ष कई उम्मीदवार आवेदन करते हैं, जो भी उम्मीदवार यूपी टीईटी 2019 के लिए आवेदन पत्र भरेंगे उनको उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा 2019 देनी होगी । जो भी उम्मीदवार टीईटी परीक्षा देंगे वह उम्मीदवार यूपी टीईटी 2019 परीक्षा पाठ्यक्रम हमारे पेज से प्राप्त कर सकते हैं और यूपी टेट परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं । बता दें कि शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तर प्रदेश 2019 के लिए पाठ्यक्रम का निर्धारिण भी उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा किया जाता है । जो भी उम्मीदवार up teacher eligibility test 2019 में शामिल होंगे उनकी जानकारी के लिए बता दें कि ये परीक्षा दो तरह के उम्मीदवार दे सकते हैं पहले जो कक्षा 1 से 5 तक की कक्षा को पढ़ाना चाहते हैं और दूसरे वो जो कक्षा 6 से 8 तक को पढ़ाना चाहते हैं । जो भी इच्छुक उम्मीदवार यूपी टीईटी सिलेबस 2019 हमारे पेज से प्राप्त कर सकते हैं ।

ये भी पढ़ें- 

यूपी टीईटी 2019 सिलेबस (UP TET Syllabus 2019)

यूपी टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट 2019 परीक्षा तिथि अभी जारी होने कि तिथि अभी घोषित नहीं की गई है लेकिन नोटिफिकेशन जारी होने के बाद up tet exam date जारी कर दी जायेगी । यूपी टीईटी प्रवेश परीक्षा 2019 जारी होने से पहले उम्मीदवार हमारे पेज पर दी गई जानकारी को पूरा पढ़ सकते हैं । उम्मीदवारों को हमारे पेज पर दी गई सही और पूरी जानकारी प्राप्त होगी जिसके माध्यम से उम्मीदवार up tet की तैयारी कर सकेंगे ।

ये पढे़ं :

यूपी टीईटी 2019 परीक्षा पाठ्यक्रम

यूपी टीईटी 2019 की परीक्षा के दो पेपर होंगे। पहला पेपर उन उम्मीदवारों के लिए है जो 1 से 5वीं कक्षा को पढ़ाना चाहते हैं। दूसरा पेपर उन उम्मीदवारों के लिए है जो 6 से 8वीं कक्षा को पढ़ाना चाहते हैं। दोनों परीक्षा के पाठ्यक्रम अलग-अलग हैं। यहां पर आपको दोनों पेपर के पाठ्यक्रम मिलेंगे। पहले आपको पेपर – 1 का सिलेबस मिलेगा। उसके नीचे आप पेपर – 2 का सिलेबस प्राप्त कर सकते हैं।

ये पढ़े यूपी टीईटी 2019 का पूरा परीक्षा पैटर्न यहां से देखें। 

पेपर – 1 पाठ्यक्रम (कक्षा I से V के लिए )
  1.  बाल विकास और अध्यापन 
  • बाल विकास का अर्थ, आवश्कता और क्षेत्र, बाल विकास की अवस्थाएं शारीरिक विकास, मानसिक विकास, संवेगात्मक विकास, भाषा विकास – अभिव्यक्ति क्षमता का विकास, सृजनात्मकता एंव सृजनात्मकता क्षमता का विकास।
  • बाल विकास के आधार एंव उनको प्रभावित करने वाले कारक – वंशानुक्रम, वातावरण (पारिवारिक, समाजिक, विध्लालयीय, संचार माध्यम)।
  • अधिगम (सिखने) का अर्थ प्रभावित करने वाले कारक, अधिगम की प्रभावशाली विधियां।
  • अधिगम के नियम – थार्नडाइक के सिखने के मुख्य नियम एंव अधिगम में उनका महत्तव।
  • अधिगम के प्रमुख सिद्धांत तथा शक्षिण में इनकी व्यावहारिक उपयोगिता, थार्नडाइक का प्रयास एंव त्रुटि का सिद्धांत, कोहलर का सूझ या अंतर्दृष्टि का सिद्धांत, प्याजे का सिद्धांत, व्योगास्की का सिद्धांत सीखने का वक्र – अर्थ एंव प्रकार, सीखने में पठान का अर्थ और कारण एंव निराकरण।

ये पढ़े – यूपी टीईटी 2019 की तैयारी कैसे करें, यहां से देखें।

2. भाषा – I

  • अपठित अनुछेद।
  • हिंदी वर्णमाला (स्वर, व्यंजन)।
  • वर्णों के मेल से मात्रिक तथा अमात्रिक शब्दों की पहचान।
  • वाक्य रचना।
  • हिंदी में सभी ध्वनियों के पारस्परिक अंतर की जानकारी।
  • हिंदी भाषा की सभी ध्वनियों, वर्णों, अनुस्वार, अनुनासिक एंव चंद्रबिंदु में अंतर।
  • संयुक्ताक्षर एंव अनुनासिक ध्वनियों के प्रयोग से बने शब्द।
  • सभी प्रकार की मात्रा।
  • विराम चिह्नों यथा – अल्प विराम, अर्द्धविराम, पूर्णविराम, प्रश्नवाचक, विस्मयबोधक, चिह्नों का प्रयोग।
  • विलोम, समानार्था, तुकांत, अतुकांत, समान ध्वनियों वाले शब्द।
  • संज्ञा, सर्वनाम, क्रिया एंव विशोषण के भेद।
  • वचन, लिंग एंव काल।
  • प्रत्य, उरसर्ग, तत्सम, तद्भव व देशज़ शब्दों की पहचान एंव उनमें अंतर।
  • लोकोक्तियों एंव मुहावरों के अर्थ।
  • संधि – स्वर संधि, व्यंजन संधि, विसर्ग संधि।
  • वाच्य समास एंव अलंकार के भेद।
  • कवियों एंव लेखकों की रचनाएं।

3. भाषा – II

अंग्रेजी

  • अदृश्य मार्ग
  • वाक्य – विषय और भविष्यवाणी, वाक्यों के प्रकार
  • भाषण के कुछ हिस्सों – प्रकार ओएस संज्ञा, सर्वनाम, क्रिया विशेषण, विशेषण, क्रिया, पूर्वसर्ग, संयोजन के रूप
  • काल – वर्तमान, अतीत, भविष्य
  • सामग्री
  • विराम चिह्न
  • शब्द गठन
  • सक्रिय और निष्क्रिय आवाज
  • एकवचन बहुवचन
  • लिंग

उर्दू

  • अपठित अनुच्छेद।
  • ज़बान की फन्नी महारतों की मुलामात।
  • मशहूर अदीबों एंव शायरों की हालाते जिंदगीएंव उनकी रचनाओं की जानकारी।
  • मुखतलिफ असनाफे अदब जैसे मज़नूम, अफसाना मर्सिया, मसनवी दास्तान वगैरह की तारीफ मअ, अमसाल।
  • सही इमला एंव तलफ्फुज की मश्क।
  • इस्म, जम़ीर, सिफत, मुतज़ाद अल्फाज, वाहिद, मोजक्कर, मोअन्नस वगैरह की जानकारी।
  • सनअते।
  • मुहावरें, जुर्बल अमसाल की मुलाकात।
  • मुखतलिफ समाजी मसायल जैसे माहौलियाति आलूदगी नाबराबरी, तालीम बराएअम्न, अदमे, तगजिया की मूलाकात।
  • नज्मों, कहानियों, हिकायतों एंव संस्मरणों में मौजूद समाजी एंव एखलाकी अक्दार को समझना।

संस्कृत

  • अकारांत पुल्लिंग
  • अकारांत स्त्रीलिंग
  • अकारांत नपुसकलिंग
  • ईकारांत स्त्रीलिंग
  • उकारांत पुल्लिंग
  • ऋकारांत पुल्लिंग
  • ऋकारांत स्त्रीलिंग
  • ङर, परिवार, परिवेश, पशु, पक्षियों, घरेलू उपयोग की वस्तुओं के संसकृत नामों से परिचय।
  • सर्वनाम।
  • क्रियाएं।
  • शरीर के प्रमुख अंगों के संस्कृत शब्दों का प्रयोग।
  • अव्वय।
  • संधि।
  • संखा्याएं।
  • लिंग, वचन, स्वर के प्रकार, प्रत्याहार, व्यंजन के प्रकार, अनुस्वार एंव अनुनासिक व्यंजन।
  • कवियों एंव लेखकों की रचनाएं।

4. गणित

  • संख्याएं एंव संख्याओं का जोड़, घटाना, गुण, भाग।
  • लघुत्तम एंव महत्तम।
  • भिन्नों का जोड़, घटाना, गुण, भाग।
  • दशमलव – जोड़, घटाना, गुण, भाग।
  • ऐकिक नियम।
  • प्रतिशत।
  • लाभ हानि।
  • साधारण ब्याज।
  • जयमिति-जयामितीय आकृतियां एंव पृष्ठ, कोण, त्रिभुज, वृत्त।
  • धन।
  • मापन।
  • परिमिति।
  • कैलेण्डर।
  • आंकड़े।
  • आयतन, धारित – घन, घमाभ।
  • क्षेत्रफल
  • रेलवे या बस समय-सारिणी।
  • आंकड़ों का प्रस्तुतीकरण एंव निरुपण।

5. पर्यावरणीय अध्ययन

  • परिवार।
  • भोजन, स्वास्थय एंव स्वच्छता।
  • आवास।
  • पेड़-पौधे एंव जंतु।
  • मेला।
  • स्थानीय पेशे से जुड़े व्यक्ति एंव व्यवसाय।
  • जल।
  • यातायात एंव संचार।
  • खेल एंव खेल भावना।
  • भारत – नदियां, पठार, वन, यातायात, महाद्वीप एंव महासागर।
  • हमारा प्रदेश।
  • संविधान।
  • शासन व्यवस्था।
  • पर्यावरण-आवश्यकता, पर्यावरण-संरक्षण।
पेपर – 2 पाठ्यक्रम (कक्षा VI से VIII के लिए )
  1.  बाल विकास और अध्यापन 
  • बाल विकास का अर्थ, आवश्कता और क्षेत्र, बाल विकास की अवस्थाएं शारीरिक विकास, मानसिक विकास, संवेगात्मक विकास, भाषा विकास – अभिव्यक्ति क्षमता का विकास, सृजनात्मकता एंव सृजनात्मकता क्षमता का विकास।
  • बाल विकास के आधार एंव उनको प्रभावित करने वाले कारक – वंशानुक्रम, वातावरण (पारिवारिक, समाजिक, विध्लालयीय, संचार माध्यम)।
  • अधिगम (सिखने) का अर्थ प्रभावित करने वाले कारक, अधिगम की प्रभावशाली विधियां।
  • अधिगम के नियम – थार्नडाइक के सिखने के मुख्य नियम एंव अधिगम में उनका महत्तव।
  • अधिगम के प्रमुख सिद्धांत तथा शक्षिण में इनकी व्यावहारिक उपयोगिता, थार्नडाइक का प्रयास एंव त्रुटि का सिद्धांत, कोहलर का सूझ या अंतर्दृष्टि का सिद्धांत, प्याजे का सिद्धांत, व्योगास्की का सिद्धांत सीखने का वक्र – अर्थ एंव प्रकार, सीखने में पठान का अर्थ और कारण एंव निराकरण।

2. भाषा – I

हिंदी

  • अपठित अनुच्छेद।
  • संज्ञा एंव भेद।
  • सर्वनाम एंव भेद।
  • विशेषण एंव भेद।
  • क्रिया एंव भेद।
  • वाच्य।
  • हिंदी भाषा की समस्त ध्वनियों, संयुक्ताक्षरों, संयुक्त व्यंजनों एंव चंद्रबिंदु में अंतर।
  • वर्णक्रम, पर्यायवाची, विपरीतार्थक, अनेकार्थक, समानार्थक शब्द।
  • अव्यय के भेद।
  • अनुस्वार के भेद।
  • “र” के विभिन्न रुपों का प्रयोग।
  • वाक्य निर्माण।
  • विराम चिन्हों की पहचान एंव उपयोग।
  • वचन, लिंग एंव काल का प्रयोग।
  • त्तसम, तद्भव, देशज एंव विदेशी शब्द।
  • उपसर्ग एंव प्रत्तय।
  • शब्द युग्म।
  • समास, विग्रह एंव भेद।
  • मुहावरे एंव लोकोक्तियों।
  • क्रिया।
  • संधि, भेद।
  • अलंकार।

अंग्रेजी

  • संज्ञाएं और इसके प्रकार।
  • सर्वनाम और इसके प्रकार।
  • क्रिया और इसके प्रकार।
  • विशेषण और इसके प्रकार।
  • पूर्वसर्ग और इसके प्रकार।
  • संयोजक और इसके प्रकार।
  • चौराहा।
  • एकवचन और बहुवचन।
  • व्यक्तिपरक और विधेय।
  • नकारात्मक और पूछताछ वाक्य।
  • मर्दाना और स्त्री वाक्य।
  • विराम चिह्न।
  • रूट शब्दों के साथ प्रत्यय।
  • वाक्यांश क्रिया।
  • किसी का उपयोग, कोई नहीं, कोई भी।
  • शब्दभेद।
  • सक्रिय और निष्क्रिय आवाज।
  • एंटोनिम्स और समानार्थी शब्द।
  • होमोफोन्स का उपयोग करें।
  • वाक्यों में अनुरोध का उपयोग करें।
  • शब्दों में चुप अक्षरों।

उर्दू

  • अपठित अनुच्छेद।
  • ज़बान की फन्नी महारतों की मुलामात।
  • मुखतलिफ असनाफे अदब जैसे मज़नूम, अफसाना मर्सिया, मसनवी दास्तान वगैरह की तारीफ मअ, अमसाल।
  • सही इमला एंव तलफ्फुज की मश्क।
  • इस्म, जम़ीर, सिफत, मुतज़ाद अल्फाज, वाहिद, मोजक्कर, मोअन्नस वगैरह की जानकारी।
  • सनअते।
  • मुहावरें, जुर्बल अमसाल की मुलाकात।
  • सियासी, समाजी एंव एख्लाकी मसाइल के तई बेदार होने और उस पर अपना नज़रिया वाजे रखना।
  • मुखतलिफ असनाफे अदब हम्द, ग़ज़ल, कसीदे, मसनवी, गीत की समझ एंव उनके फर्क को समझना।

संस्कृत

  • अपठित अनुच्छेद।
  • संधि।
  • अव्वय।
  • सामास।
  • लिंग, वचन एंव काल का प्रयोग।
  • उपर्सग।
  • पर्यायवाची।
  • विलोम।
  • कारक।
  • अंलकार।
  • प्रत्तय।
  • वाच्य।
  • संज्ञाएं।
  • पुल्लिंग शब्द
  • स्त्रीलिंग शब्द
  • नपुसंकलिंग शब्द
  • अकारांत पुल्लिंग
  • अकारांत स्त्रीलिंग
  • अकारांत नपुसकलिंग
  • उकारांत पुल्लिंग
  • उकारांत स्त्रीलिंग
  • उकारांत नपुसकलिंग
  • ईकारांत स्त्रीलिंग
  • ईकारांत पुल्लिंग
  • ईकारांत नपुसकलिंग
  • ऋकारांत पुल्लिंग

गणित

  • प्रकृतिक, पूर्ण, परिमेय संख्याएं
  • पूर्णाक, कोष्ठक लघुत्तम समापवत्र्य एंव महत्तम समापवर्तक
  • वर्गमूल
  • घनमूल
  • सर्वसमिकाएं
  • बीजगणित
  • यगुपत, वर्ग, रेखीय समीकरण
  • वृत्त और चक्रिय चतुर्भुज
  • वृत्त की स्पर्श रेखांए
  • वाणिज्य गणित
  • बैंकिंग
  • संख्यिकी
  • पाई एंव दण्ड चार्ट, अवर्गीकृत आंकड़ों का चित्र
  • कार्तीय तल
  • क्षेत्रमिति
  • घातांक
  • सामुदायिक
  • मूल्यांकन
  • उपचारात्मक
  • शिक्षण की समस्याएं

विज्ञान

  • दैनिक जीवन में विज्ञान
  • जंतु की संरचना
  • सूक्ष्म जीव एंव उनका कार्य
  • कोशिश से अंगतंत्र तक
  • किशोरावस्था, विकलांगता
  • भोजन, स्वास्थ, स्वच्छता एंव रोग, फसल उत्पादन, नाइट्रोजन चक्र
  • जन्तुओं में पोषण
  • पौधों में पोषण, जनन, लाभदायक पौध
  • जीवों में श्वसन, उत्सर्जन, लाभदायक जंतु
  • मापन
  • विधुत धारा
  • चुंबकत्व
  • गति, बल, यंत्र
  • ऊर्जा
  • कंप्यूटर
  • ध्वनि
  • स्थिर विद्धुति
  • प्रकाश एंव प्रकाश यंत्र
  • वायु
  • जल
  • ऊष्मा एंव ताप
  • मानव निर्मित वस्तुएं
  • खजिन एंव धातु
  • कार्बन एंव उसके यौगिक
  • ऊर्जा

3. समाजिक अध्ययन

इतिहास

  • इतिहास जानने के श्रोत
  • पाषाणकालीन संस्कृतिस ताम्र, पाषणिक संस्कृत, वैदिक संस्कृत
  • छठी शताब्दी का भारत
  • भारत के प्रारंभिक राज्य
  • भारत मौर्य सामा्रज्य की स्थापना
  • इस्लाम में भारत का आगमन
  • दिल्ली सल्तनत की स्थापना, विस्तार, विघटन
  • मुगल साम्राज्य, संस्कृति, पतन
  • भारत में कंपनी राज्य का विस्तार
  • भारत में नवजागरण, भारत में राष्ट्रवाद का उदय

नागरिक शास्त्र

  • हम और हमारा समाज
  • ग्रामीण एंव नगरीय समाज व रहन सहन
  • ग्रामीण व नगरीय स्वशासन
  • जिला प्रशासन
  • हमारा संविधान
  • यातायात सुरक्षा
  • केद्रिय व राज्य शासन व्यवस्था

भूगोल

  • सौरमण्ल में पृथ्वी, ग्लोब – पृथ्वी पर स्थानों का निर्धारण, गतियां
  • मानचित्रण
  • भारत का भौतिक स्वरुप
  • उत्तर प्रदेश
  • धरातल के रुप
  • वायुमण्डल
  • अपदा एंव आपदा प्रवंधन

यूपी टीईटी परीक्षा पैटर्न 2019

यूपीटेट परीक्षा 2019 दो भागों में आयोजित की जायेगी जिसमें पहली परीक्षा प्राथमिक शिक्षक के लिए होगा जो कक्षा 1 से 5वीं के लिए है । दूसरा परीक्षा उन उम्मीदवारों के लिए है जो उच्च प्राथमिक शिक्षक के लिए आवेदन करेंगे जो कक्षा 6वीं से 8वीं के लिए है । एग्जाम 1 और एग्जाम 2 में सभी प्रश्न बहु विकल्पीय होंगे । प्रत्येक प्रश्न 1 अंक पर आधारित किया गया है जिसमें कोई नेगिटिव मार्किंग नहीं की जायेगी, UP TET Exam Pattern 2019 की अधिक जानकारी के लिए नीचे दी हुई टेबल से प्राप्त कर सकते हैं ।

यूपी टेट परीक्षा 2019 पेपर -1 पैर्टन

विषय अंक प्रशन
बाल विकास और अध्यापन 30 30
भाषा I (हिंदी) 30 30
भाषा II (अंग्रेजी / उर्दू / संस्कृत) 30 30
गणित 30 30
पर्यावरण अध्ययन 30 30
कुल 150 150

यूपी टेट परीक्षा 2019 पेपर -2 पैर्टन

विषय अंक प्रशन
बाल विकास और अध्यापन 30 30
भाषा I (अनिवार्य) 30 30
भाषा II (अनिवार्य) 30 30
गणित / विज्ञान / सामाजिक अध्ययन / अन्य शिक्षकों के लिए कोई भी 60 60
कुल 150 150

यूपी टीईटी 

Mody University Apply Now!!

अपने विचार बताएं।