कई लोग ऐसे होते हैं जिनको हमेशा से पता होता है कि उन्हें क्या करना है। शिक्षक बनने का शौक हमेशा से सभी को होता है लेकिन कुछ ही लोग शिक्षक बनने की पूरी कोशिश करते हैं। जिन उम्मीदवारों को शिक्षक बनना है उन उम्मीदवारों के लिए आर्टिकल बहुत महत्तवपूर्ण है। शिक्षक बनने के लिए उम्मीदवार डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजुकेशन (डीएलएड) को कोर्स कर सकते हैं। जो उम्मीदवार उत्तर प्रदेश राज्य से डीएलएड का कोर्स करना चाहते हैं वो उम्मीदवार इस पेज से सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

आपको बता दें कि यूपी डीएलएड उत्तर प्रदेश शिक्षा बोर्ड के द्वारा आयोजित किया जाता है। यह कोर्स 2 साल को होता है। उम्मीदवार इस कोर्स में एडमिशन ग्रेजुएशन के बाद ले सकते हैं। यूपी डीएलएड कोर्स में एडमिशन उम्मीदवारों के द्वारा 10वीं, 12वीं और ग्रेजुएशन में प्राप्त अंको के आधार पर किया जाता है। डी एल एड उत्तर प्रदेश से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप यह आर्टिकल पूरा पढ़ सकते हैं।

यूपी डीएलएड (UP D.El.Ed)

यूपी डीएलएड को पहले बीटीसी कोर्स भी कहा जाता था। लोकिन अब यह कोर्स डीएलएड के नाम से जाना जाता है। इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए किसी तरह की प्रवेश परीक्षा आयोजित नहीं की जाती है। इसके लिए उम्मीदवारों के 10वीं, 12वीं और ग्रेजुएशन में अंको को ध्यान में रखा जाता है। अगर आप यूपी से डीएलएड का कोर्स करना चाहते हैं तो उसकी योग्यता, चयन प्रक्रिया, फीस से जुड़ी सारी जानकारी नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

उत्तर प्रदेश राज्य में शिक्षा के क्षेत्र में भविष्य बनाने के इच्छुक छात्र राज्य से डीएलएड कोर्स कर सकते हैं। UP D.El.Ed एडमिशन के लिए लिखित परीक्षा स्कोर कार्ड जारी होने के बाद अब काउंसलिंग शुरू करने हेतु नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। उम्मीदवार UP DElEd Counselling के लिए रजिस्ट्रेशन ऑफिसियल वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर या इस पेज पर उपलब्ध करवाए गए लिंक से कर सकते हैं। उम्मीदवार काउंसलिंग प्रक्रिया में भाग लेने से पहले रजिस्ट्रेशन अवश्य करा लें। यूपी डीएलएड एडमिशन प्रक्रिया का आयोजन प्रतिवर्ष उत्तर प्रदेश परीक्षा नियामक प्राधिकारी के द्वारा किया जाता है। UP D.El.Ed के बारे में और अधिक जानकारी जैसे एप्लीकेशन फॉर्म, एडमिट कार्ड, रिजल्ट आदि के लिए आप यह आर्टिकल पूरा पढ़ सकते हैं।

यूपी डीएलएड योग्यता मापदंड 2022

जो भी छात्र यूपी बीटीसी के लिए आवेदन पत्र भरेंगे उन्हें योग्यता मापदंडो को पूरा करना होगा। बता दें कि आवेदन पत्र भरने के लिए न्यूनतम योग्यता मापदंड रखा जाता है। योग्यता मापदंडो को पूरा करने वाले छात्र ही केवल आवेदन करने के योग्य माने जाते हैं। अगर छात्र बिना योग्यता मापदंडो को पूरा किये बगैर आवेदन करते हैं तो ऐसे आवेदन रद्द किये जा सकते हैं। योग्यता मापदंड निम्न प्रकार से दिया गया है –

शैक्षणिक योग्यता
  • किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से 50% अंको के साथ स्नातक की डिग्री होनी चाहिए।
  • ओबीसी/एससी/एसटी उम्मीदवारों के लिए 5% की छूट है।
आयु सीमा
  • उम्मीदवारों की आयु 18 से 35 साल के बीच होनी चाहिए।

    यूपी डीएलएड आवेदन पत्र

    यूपी डीएलएड का कोर्स करने में इच्छा रखने वाले उम्मीदवारों को सबसे पहले आवेदन प्रक्रिया में भाग लेना है। आपको बता दें कि यूपी डीएलएड के लिए ऑनलाइन माध्यम से आवेदन प्रक्रिया में भाग लेना होता है। किसी और माध्यम से किए गए आवेदनों को स्वीकर नहीं किया जाता है। उम्मीदवारों को डी एल एड उत्तर प्रदेश के लिए आवेदन पत्र आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in से प्राप्त कर सकते हैं। उम्मीदवारों को आवेदन पत्र में पूछी गई जानकारी को सही से और पूरा भरना है। उम्मीदवारों को अपनी एजिकेशन क्वालिफिकेशन को ध्यान से भरना है क्योंकि दी गई जानकारी के अनुसार ही उम्मीदवारों का नाम मेरिट लिस्ट में जारी किया जाएगा।

    उम्मीदवारों के लिए जानने वाली बात यह है कि ऑानलाइन आवेदन पत्र के साथ उम्मीदवारों को आवेदन शुल्क का भी भुगतान करना है। उम्मीदवारों को भारतीय स्टेट बैंक से आवेदन शुल्क का भुगतान करना है। यूपी डीएलएड आवेदन शुल्क भुगतान के बाद ही आवेदन प्रक्रिया को पूरा माना जाएगा। किसी भी उम्मीदवार को आवेदन पत्र को जमा करने के बाद उसमें बदलाव का अवसर नहीं दिया जाएगा। उम्मीदवारों को आखिरी तारीख से पहले आवेदन प्रक्रिया को पूरा करना है। आखिरी तारीख के बाद किसी भी उम्मीदवार का आवेदन पत्र स्वीकार नहीं किया जाएगा।

    यूपी डीएलएड चयन प्रक्रिया

    यूपी डीएलएड कोर्स में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवारों को तय की गई चयन प्रक्रिया में भाग लेना है। जो उम्मीदवार सभी चयन प्रक्रिया को नियमों के साथ पूरा करेंगे उन उम्मीदवारों को एडमिशन दिया जाएगा। सबसे पहले उम्मीदवारों को यूपी डीएलएड की आवेदन प्रक्रिया में भाग लेना है। आवेदन पत्र में उम्मीदवारों को पूछी गई सभी जानकारी को सही से भरना है क्योंकि आवेदन पत्र सबमिट होने के बाद किसी भी तरह का बदलाव नहीं कर सकते हैं। उम्मीदवार 10वीं, 12वीं और ग्रेजुएशन के अंक सही से डालें। क्योंकि मेरिट लिस्ट इसी के आधार पर बनाई जाती है। आवेदन पत्र के साथ उम्मीदवारों को आवेदन शुल्क का भी भुगतान करना है। आवेदन शुल्क भुगतान के बाद ही आवेदन प्रक्रिया को पूरा माना जाता है।

    यूपी डीएलएड आवेदन प्रक्रिया के बाद उम्मीदवारों के द्वारा आवेदन पत्र में भरी गई जानकारी के अनुसार मेरिट लिस्ट जारी की जाती है। यूपी डीएलएड मेरिट लिस्ट के आधार पर रैंक जारी की जाती है। मेरिट लिस्ट जारी होने के बाद योग्य उम्मीदवारों को अपना पसंदीदा कॉलेज का चयन करने का मौका मिलता है। उम्मीदवार कितने भी कॉलेज का चयन कर सकते हैं।

    इसके बाद यूपी डीएलएड कांउसलिंग आयोजित की जाती है। कांउसलिंग में उम्मीदवारों को यूपी डीएलएड कोर्स करने के लिए कॉलेज निर्धारित किए जाते हैं। सभी उम्मीदवारों को कॉलेज मिलने के बाद उम्मीदवारों को कॉलेज में डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए बुलाया जाएगा।

    यूपी डीएलएड रिजल्ट

    यूपी डीएलएड आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के बाद उम्मीदवारों का रिजल्ट जारी किया जाता है। उम्मीदवारों का रिजल्ट आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किया जाता है। उम्मीदवारों के द्वारा आवेदन पत्र में भरी जानकारी के अनुसार मेरिट लिस्ट जारी की जाती है। आपको बता दें कि मेरिट लिस्ट में नाम उम्मीदवारों के 10वीं, 12वीं और ग्रेजुएशन में प्राप्त अंकों के आधार तैयार की जाती है। मेरिट लिस्ट में स्थान पाने वाले उम्मीदवारों की रैंक निर्धारित की जाती है जिसके आधार पर चयन किया जाता है।

    इसके बाद योग्य उम्मीदवारों को कॉलेज को चुनने का अवसर दिया जाता है। उम्मीदवार अपनी पंसद के कॉलेज का चयन कर सकते हैं। साथ ही उम्मीदवार एक से अधिक कॉलेज का तयन कर सकते हैं। आपको बता दें कि मेरिट लिस्ट में रैंक एक होने पर उम्मदवारों की आयु को आधार बनाकर एडमिशन दिया जाता है। और अगर आयु भी एक हुई तो नाम के पहले अक्षर को एडमिशन का आधार बनाया जाता है।

    यूपी डीएलएड कांउसलिंग

    यूपी डीएलएड रिजल्ट जारी होने के बाद योग्य उम्मीदवारों को कांउसलिंग के लिए बुलाया जाता है। जिन उम्मीदवारों का नाम मेरिट लिस्ट में आएगा वो उम्मीदवार कांउसलिंग में भाग ले सकते हैं। उम्मीदवारों को ऑनलाइन माध्यम से अपने पसंद के कॉलेज का चयन करना है। उम्मीदवार एक से अधिक कॉलेज का चयन कर सकते हैं। जिन उम्मीदवारों का नाम पहली कांउसलिंग में आएगा उन उम्मीदवारों को निर्धारित कॉलेज में जाकर डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन की प्रक्रिया को पूरा करना है। यूपी डीएलएड कोर्स में सीटें बचने पर दूसरी कांउसलिंग भी आयोजित की जाती है।

    Similar Posts

    Leave a Reply